काशी के मणिकर्णिका घाट पर चिता की राख से खेली गई होली, देखें Video

काशी के मणिकर्णिका पर चिता की राख से खेली गई होली.

काशी के मणिकर्णिका पर चिता की राख से खेली गई होली.

Varanasi: धर्मनगरी काशी में मणिकर्णिका घाट पर चिता की राख से हजारों लोगों ने जमकर होली खेली. देखें वीडियो

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 5:47 PM IST
  • Share this:
वाराणसी. विश्व प्रसिद्ध काशी में ऐसी अलबेली होली जाती है, जिसे देखने और सराबोर होने दुनिया भर से लोग खिंचे चले आते हैं. जी हां, वाराणसी में दुनिया की एकलौती चिता की राख और भस्म से होली खेली जाती है. नजारा ऐसा दिखता है कि जैसे भूतभावन महादेव खुद होली खेल रहे हों. इस बार भी भूत भावन के भक्तों ने दुनिया की एकलौती चिता भस्म की होली खेली. दुनिया के नक्शे में मोक्ष के घाट के रूप में विख्यात काशी के मणिकर्णिका पर ये होली खेली गई. खास बात ये रही कि इस बार हरिश्चंद्र घाट पर भी इस होली का आयोजन किया गया.

काशी में देवस्थान और महाश्मसान का महत्व एक जैसा है. पवित्र तीर्थों के बीच में विराजे बाबा श्मशान नाथ के चरणों में चिता की राख समर्पित करने के बाद भक्त यहां उसे उड़ाकर होली खेलते हैं. इस मणिकर्णिका महा श्मशान में चिता भस्म का फाग रचाने और राग विराग दोनों को ही जिंदगी का हिस्सा मानने की ये जीवंत तस्वीरें है.

Youtube Video


काशी की ये रीति रिवाज उसे अविमुक्त क्षेत्र बनाते हैं. इसलिए आम से लेकर खास तक, संत से लेकर सन्यासी तक चिता भस्म को विभूति मानकर माथे पर लगाकर होली खेलते हैं. राग विराग की नगरी काशी की परंपराएं भी अजब और अनोखी हैं. रंगभरी एकादशी पर अड़भंगी बारात के साथ बाबा मां पार्वती का गौना कराकर ले जाते हैं और दूसरे दिन बाबा के गणों द्वारा ये होली खेली जाती है.
ये भी पढ़ें: ये है काशी के महाश्मशान पर चिता की राख से खेली जाने वाली अनोखी होली, देखिए तस्वीरें

रंगभरी एकादशी के अगले दिन होता है आयोजन

काशीवासी मानते हैं कि मां गौरा को विदा कराने के बाद बाबा भक्तों को होली खेलने और हुड़दंग की अनुमति प्रदान करते हैं. महा श्मशाननाथ मंदिर के व्यवस्थापक गुलशन कपूर कहते हैं कि परंपराओं के अनुसार रंगभरी एकादशी के ठीक अगले दिन भगवान शिव के स्वरूप बाबा मशान नाथ की पूजा कर श्मशान घाट पर चिता भस्म से उनके गण होली खेलते हैं. काशी मोक्ष की नगरी है और मान्यता है कि यहां भगवान शिव स्वयं तारक मंत्र देते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज