Assembly Banner 2021

International Women's Day: काशी में 1 हजार महिलाओं ने किया शिव तांडव स्त्रोत का पाठ, देखें- VIDEO

काशी में अस्सी घाट पर अद्भुत नजरा देखने को मिला.

काशी में अस्सी घाट पर अद्भुत नजरा देखने को मिला.

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women's Day) के अवसर काशी में एक हजार महिलाओं ने एक साथ शिव तांडव स्त्रोत (Shiva Tandava Stotra) पाठ किया. यह सभी देश के 14 राज्यों से काशी आई हुई हैं.

  • Share this:
वाराणसी. शिवरात्रि से पहले ही काशी शिवमय हो चुकी है. भगवान शंकर की इस नगरी में सोमवार की शाम अस्सी घाट पर अद्भुत नजरा देखने को मिला जहां 14 राज्यों की महिलाओं ने हजारों की संख्या में एक साथ शिव तांडव स्त्रोत (Shiva Tandava Stotra) को गाया. सभी के हाथों में जलता हुआ दिया और उसकी रौशनी से चमकते एक ही रंग से काशी (Kashi) का कोना कोना शिवमय हो गया.

हजारों की संख्या में वारणसी के अस्सी घाट की सीढ़ियों पर लाइन में खड़ी महिलाएं और उनके हाथों में जलते दिए मानों ऐसे लग रहे थे कि काशी की धरती पर शिव की सभा लगी हो और भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए हजारों की संख्या में ये शक्तियां अपनी पलक पसारे खड़ी हैं. खास बात यह रही कि शिव की भक्ति में आयोजित इस कार्यक्रम में सभी महिलाओं ने एक साथ एक आवाज में शिव तांडव स्त्रोत का गायन किया. यह सभी महिलाएं देश के 14 राज्यों से काशी आई हुई हैं.





बता दें कि यह महिलाएं खास तौर से केरल, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, दिल्ली,जैसे राज्यों से काशी पहुचीं हैं. हर हर महादेव का उद्घोष और बाबा की स्‍तुति में शिव तांडव का यह अद्भुत और अनोखा आयोजन काशी के लिए भी किसी अनूठे उत्‍सव सरीखा रहा. शिव तांडव स्‍त्रोत के पाठ के साथ ही घाटों पर गंगा आरती का भी आयोजन शुरू हुआ तो जान्‍हवी तट पर दीयों की रोशनी से गंगा तट भी मानों रोशनी से नहाया नजर आने लगा. जैसे जैसे शाम होने लगी आयोजन में शामिल होने के लिए लोगों की भी घाट पर भारी जुटान शुरू हो गई. भले ही यह महिलाएं एक संस्था के द्वारा यहां पहुचीं हो लेकिन जिस प्रकार इन्होंने शिव की भक्ति की उससे साफ जाहिर है कि काशी दुनिया से यूं ही अलग नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज