अरविंद केजरीवाल के नाम पर क्यों बिगड़ जाते हैं मनोज तिवारी के सुर?

भोजपुरी गायक और दिल्ली प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी से चकल्लस चौबे की खास मुलाकात

News18Hindi
Updated: May 4, 2019, 9:14 AM IST
News18Hindi
Updated: May 4, 2019, 9:14 AM IST
न्यूज़ 18 के चकल्लस चौबे ने भोजपुरी के गायक और दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी से अपने दर्शकों के लिए खास तौर से बातचीत की. उन्होंने जाना कि कब मनोज तिवारी के सुर बिगड़ जाते हैं. उन्होंने समझने की कोशिश की कि लोकसभा चुनाव में मनोज तिवारी की क्या रणनीति है. उन्होंने जाना जाना कि कब मनोज तिवारी के सुर बिगड़ जाते हैं.

ये भी पढ़ें : कारों के शौकीन हैं दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी, 24 करोड़ की संपत्ति के मालिक



दरअसल भोजपुरी में सार्थक राजनीतिक व्यंग करने वाले चकल्लस चौबे यानी यानी सीएनएन न्यूज 18 के एक्जीक्यूटिव एडिटर भूपेंद्र चौबे जी ने भोजपुरी के स्टार रहे इस सांसद मनोज तिवारी के साथ प्रचार के दौरान रहे. उनकी रणनीति को देखा और समझा भी. भोजपुरी सिनेमा में सबको उखाड़ देने वाले मनोज तिवारी को यहां दो नेताओं से जूझना है.

दिल्ली में उन्हें चुनौती देने वालों में एक तो अरविंद केजरीवाल हैं ही. आंदोलन की उपज केजरीवाल की राजनीति का तरीका नया हो सकता है, लेकिन दूसरी ओर दशकों की राजनीति देख चुकी मझी हुई नेता शीला दीक्षित से भी तिवारी को लोहा लेना है. शीला दीक्षित से तो मनोज तिवारी को सीधे चुनाव क्षेत्र में भी लड़ना है. दिल्ली की उत्तर पूर्वी सीट से मनोज तिवारी के सामने दिलीप पांडेय आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं.

बीजेपी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष का कहना है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इस कदर बेसुरे हैं कि जैसे ही कोई उनके सामने केजरीवाल का नाम लेता है उनके सारे सुर बिगड़ने लगते हैं. फिर भी अपने चौबे जी ने उन्हें छोड़ा नहीं. उनसे भोजपुरी के गीत गवा ही लिए. मनोज तिवारी ने इस विशेष मुलाकात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए बनाया गया गीत खास तौर पर सुनाया.

मनोज तिवारी का कहना है कि बीजेपी में कलाकार आ रहे हैं ये सुखद है, क्योंकि कलाकार जहां रहेंगे वहां सुर रहेगा. उनके हिसाब से बीजेपी ही जो सद्भाव को बचा कर रख रही है. वे दूसरी पार्टियों पर देश की सुरक्षा से खिलवाड़ करने के भी आरोप लगा रहे हैं. खासतौर से राजद्रोह के कानून को खत्म करने वाले कांग्रेस के कथित वायदे को लेकर वे खासे खफा हैं.

बकौल मनोज तिवारी – “ये चुनाव इस बात पर है कि भारत का सच्चा सपूत कौन है, कौन सच्चा शेर है, भारत की सच्ची सेवा कौन कर रहा है, जैसे सवालों पर लड़ा जा रहा? ” मनोज तिवारी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर तीखे आरोप भी लगाए. उनका सवाल है- “ये कैसा मेनिफेस्टो है कि जो लोग देश के टुकड़े टुकड़े होने की बात करते हैं आप उन्ही का समर्थन करने की बात करते हैं.”
Loading...

दिल्ली की एक अन्य सीट से चुनाव मैदान में उतरे पंजाबी और सूफी गायक हंसराज हंस की भी मनोज तिवारी ने खुल कर तरफदारी की. उन्होंने हंस की आलोचना के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर जोरदार हमला किया. तिवारी का कहना है कि केजरीवाल हंस को मुसलमान कहा जा रहा है. जबकि हंस सूफी गायक हैं. बीजेपी नेता तिवारी का कहना है कि हंस राज हंस पर इस तरह के फर्जी आरोप लगा कर केजरीवाल ने पूरे बाल्मिकी समाज का अपमान किया है.

मनोज तिवारी दिल्ली में चुनाव प्रचार के बाद अमेठी पहुंच रहे हैं. उनका कहना है कि वे जब पहुंचेगे तो होगा – “देखो देखो मनोज आया, देखो देखो राहुल अमेठी से भाग रहा.” शायद वे इसी मुद्दे को वहां जोर शोर से उठाएंगे कि राहुल गांधी ने दो जगहों से नामांकन ही इसी वजह से किया, ताकि वायनाड सीट जीतने पर वे अमेठी को छोड़ दें.

ये भी पढ़ें : दिल्ली में 'स्टार पावर' की जंग, मैदान में क्रिकेटर, बॉक्सर, एक्टर और सिंगर

मनोज तिवारी के रोड शो में शामिल हुईं सपना चौधरी, देखें VIDEO
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...