महिला ने लगाई कोर्ट से गुहार, कहा- मोटी बोलकर पार्टी में नहीं ले जाता पति

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 27, 2019, 11:26 AM IST
महिला ने लगाई कोर्ट से गुहार, कहा- मोटी बोलकर पार्टी में नहीं ले जाता पति
महिला ने लगाई कोर्ट से गुहार, कहा- मोटी बोलकर पार्टी में नहीं ले जाता पति (फोटो: गौरव, न्यूज़ 18 हिंदी)

महिला का कहना है कि शादी के कुछ दिनों तक सब ठीक रहा, लेकिन बाद में उसके पति ने मोटी कहकर उसका उत्पीड़न करना शुरू कर दिया.

  • Share this:
पति-पत्नी के बीच तलाक (Divorce) का सबसे बड़ा कारण होता है, दोनों के बीच हर दिन होने वाला झगड़ा. रोज-रोज की लड़ाई (Fight) से तंग आकर पति-पत्नी अलग होने का फैसला कर लेते हैं और मामला कोर्ट (Court) तक पहुंच जाता है. गाजियाबाद के इन्दिरापुरम इलाके से ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहां एक पत्नी ने कोर्ट से अपने पति के उत्पीड़न से छुटकारा दिलाने की गुहार लगाई है.

आरोप लगाने वाली महिला बिजनौर की है जिसकी शादी मेरठ के एक युवक से साल 2014 में हुई थी. शादी के 2 साल बाद दोनों इंदिरापुरम इलाके में एक कॉलोनी में रहने लगे थे. महिला का कहना है कि शादी के कुछ दिनों तक सब ठीक रहा, लेकिन बाद में उसके पति ने उसका उत्पीड़न करना शुरू कर दिया.

UP के नए बेसिक शिक्षा मंत्री का पहला फरमान- अब स्कूलों में 15 मिनट योग अनिवार्य

महिला का आरोप है कि उसका पति उसे मोटी बोलकर परेशान करता है और उसे बहार कहीं भी अपने साथ ले जाने से मना करता है. महिला ने कहा कि उसका पति उसे ये कहकर पार्टी में नहीं ले जाता कि तुम बहुत मोटी हो और मेरे साथ कहीं जाने के लायक नहीं हो.

वहीं महिला का आरोप है कि उसका पति उसे दिन भर ताने मारने के अलावा अल्कोहल लेने का दबाव बनाता है. वहीं महिला ने पति पर मारपीट का आरोप भी लगाया है. नवभारत टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक  महिला द्वारा दी गई कोर्ट में अर्जी को स्वीकार कर लिया गया है.

महिला की कोर्ट में अजीबोगरीब अर्जी
हाल ही में यूएई (UAE) की एक महिला ने कोर्ट में अजीबोगरीब अर्जी लगाई है. महिला का कहना है कि उसका पति उससे बहुत ज्यादा प्यार करता है, जिससे अब वह ऊब गई है और तलाक लेना चाहती है. महिला ने फुजैरा की शरिया कोर्ट (Sharia Court) में खुला (महिलाओं द्वारा लिया जाने वाला तलाक) की अर्जी लगाई. दोनों की शादी को केवल एक साल ही हुए हैं.
Loading...

रोमांटिक पति, लड़ने का कोई मौका नहीं देता
कोर्ट में लगाते हुए महिला ने बताया कि उसका पति उसके ऊपर कभी चिल्लाता नहीं है और न ही उसने कभी ऐसा मौका दिया है, जिससे वह उदास हो. महिला ने बताया, 'मैं पति के इतने ज्यादा प्यार से परेशान हो गई हूं. महिला ने बताया कि घर की सफाई में वह मेरी मदद करता है और खाना भी मेरे साथ ही बनाता है. एक साल की शादी में हमारा एक बार भी झगड़ा नहीं हुआ.'

UP उपचुनाव: बीजेपी, सपा व बसपा का होमवर्क तेज, कांग्रेस को संजीवनी की तलाश

महिला ने कोर्ट को बताया कि पति उसके प्रति इतना उदार रहा कि इससे उसकी जिंदगी बोरिंग हो गई है. महिला ने कहा, वह काफी समय से लड़ने के लिए तड़प रही है, लेकिन उसका रोमांटिक पति उसे लड़ने का कोई मौका नहीं देता है. महिला ने कहा कि मैं लड़ने के लिए कई बार गलत तरीका भी अपनाती हूं, लेकिन वह हर बार मुझे माफ कर देता और मुझे जरूरत से ज्यादा तोहफे देता है. मैं उसके साथ किसी भी बात पर बहस करना चाहती हूं ताकि मुझे लगे कि मैं शादीशुदा जिंदगी बिता रही हूं.'

परफेक्ट और आदर्श पति बनने की कोशिश
वहीं कोर्ट में पति ने कहा कि उसने कुछ गलत नहीं किया है बल्कि वह एक परफेक्ट और आदर्श पति बनने की कोशिश कर रहा है. पति ने कोर्ट से पत्नी की अर्जी खारिज करने की अपील की है. पति ने कहा कि एक साल में किसी शादी पर फैसला सुनाना सही नहीं है. कोर्ट ने पति-पत्नी को आपसी मतभेद सुलझाने के लिए कहा है.

UP TET 2019: सितंबर में ऑनलाइन आवेदन, अक्टूबर अंत में एग्जाम, शिक्षक भर्ती अगले साल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गाजियाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 11:26 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...