लाइव टीवी

UP के इस शेल्टर होम में मिलीं शराब-बीयर की खाली बोतलें और आपत्तिजनक सामान

News18Hindi
Updated: October 5, 2019, 9:08 AM IST
UP के इस शेल्टर होम में मिलीं शराब-बीयर की खाली बोतलें और आपत्तिजनक सामान
डीपीओ संग राज्य महिला आयोग की टीम भी शेल्टर होम का निरीक्षण करने पहुंची थी.

शेल्टर होम में रह रही एक युवती ने की थी सुसाइड की कोशिश, लगाया था शारीरिक शोषण का आरोप

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 5, 2019, 9:08 AM IST
  • Share this:
आगरा. उत्तर प्रदेश के आगरा (Agra) के एक शेल्टर होम (Shelter Home) का राज्य महिला आयोग (State Women Commission) की टीम ने दौरा किया. टीम को निरीक्षण के दौरान शराब और बीयर की खाली बोतलें और बाथरूम से कुछ आपत्तिजनक सामान मिले. शेल्टर होम की दीवार पीछे से टूटी हुई थी. बताया गया है कि बच्चों का ये शेल्टर होम किशोर न्याय अधिनियम में रजिस्टर्ड नहीं है. यहां रह रही एक युवती द्वारा सुसाइड करने की कोशिश के बाद राज्य महिला आयोग की टीम निरीक्षण करने पहुंची थी.

क्या हुआ था शेल्टर होम में एक दिन पहले

गुरुवार को शेल्टर होम में रहने वाली एक युवती ने सुसाइड की कोशिश की थी. बाल कल्याणकारी संस्थाओं से जुड़े नरेश पारस ने बताया, 'युवती ने शेल्टर होम की ओर से यमुना नदी में छलांग लगा दी थी. लेकिन जिस जगह वो कूदी वहां पानी कम था. इससे उसके सिर में चोट आई थी. पूछताछ में युवती ने शेल्टर होम में अपने साथ शारीरिक शोषण की बात कही. युवती का आरोप है कि उसके साथ तीन साल से गलत काम किया जा रहा है. इसके बाद पुलिस ने फौरन कार्रवाई करते हुए तीन लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. वहीं प्रशासन मामले की जांच कराए जाने की बात कह रहा है.'

जब शेल्टर होम में पहुंची आयोग की टीम

नरेश पारस ने बताया कि 'शेल्टर होम की युवती द्वारा सुसाइड की कोशिश की खबर सुनकर राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष सुषमा सिंह और सदस्य निर्मला दीक्षित शेल्टर होम पहुंचीं. उनके साथ डीपीओ लवकुश भार्गव भी थे. टीम ने शेल्टर होम का निरीक्षण किया तो वहां लड़कियों के पास महंगे-महंगे मोबाइल फोन मिले. परिसर में एक जगह शराब की खाली बोतल और बीयर की कैन मिली. बाथरूम में यूज्ड कंडोम पड़े हुए थे.'

शेल्टर होम का निरीक्षण करने पहुंची राज्य महिला आयोग की टीम को मौके पर खाली बीयर के कैन पड़े मिले


बच्चों के शेल्टर होम में रह रहीं थी बड़ी लड़कियां!
Loading...

निरीक्षण टीम के साथ मौके पर मौजूद नरेश पारस ने बताया, शेल्टर होम की सिर्फ सोसाइटी रजिस्टर्ड है, लेकिन किशोर न्याय अधिनियम (JJ Act) में पंजीकृत नहीं है. होम में किसी भी तरह का कोई रिकॉर्ड नहीं रखा गया है. वहां रह रही एक लड़की बी.एड कर रही है तो एक बीए की पढ़ाई. सुसाइड की कोशिश करने वाली लड़की की मेडिकल जांच में उम्र 18 साल आई है. वहां मिली जानकारी के अनुसार इस शेल्टर होम में 11 लड़के और 29 लड़कियां रह रहीं हैं.

'शेल्टर होम की खामियों के लिए कई लोग दोषी'

आगरा के जिला प्रोवेशन अधिकारी (डीपीओ) लवकुश भार्गव ने बताया कि इस शेल्टर होम की सोसाइटी तो पंजीकृत है. लेकिन इसे जेजे एक्ट में रजिस्टर्ड नहीं कराया गया है. इसके लिए हमने पहले भी होम को नोटिस जारी किया था. लेकिन इन्होंने अभी तक रजिस्ट्रेशन नहीं कराया है. वहीं राज्य महिला आयोग  की उपाध्यक्ष सुषमा सिंह ने बताया कि शेल्टर होम में मिली खामियों के लिए कई और लोग भी दोषी हैं. अगर पहले ही निरीक्षण के दौरान इन खामियों को दूर कर लिया जाता तो युवती के साथ इतनी बड़ी घटना नहीं होती. इसकी रिपोर्ट तैयार की जा रही है.

ये भी पढ़ें- 

चलती ट्रेन की सील बंद बोगी से गायब हो गई बाइक

यह कैसी मजबूरी: यूपी में सिर्फ 3 फीट चौड़े सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं बच्चे, देखें Video

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए आगरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 5, 2019, 7:37 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...