Lockdown: दूसरे राज्य में फंसे हैं तो यहां करें फोन, यूपी सरकार पहुंचाएगी आपके घर

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) ने उत्तराखंड और राजस्थान में फंसे छात्रों और अन्य लोगों को लाने के लिए 350 से ज्यादा बसें लगाई हैं. 

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) ने उत्तराखंड और राजस्थान में फंसे छात्रों और अन्य लोगों को लाने के लिए 350 से ज्यादा बसें लगाई हैं. 

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) ने उत्तराखंड और राजस्थान में फंसे छात्रों और अन्य लोगों को लाने के लिए 350 से ज्यादा बसें लगाई हैं. 

  • Share this:
नई दिल्ली. अपने घरों से दूर नौकरी-धंधे या पढ़ाई ले लिए गए लोग कोरोना (COVID-19) की वजह से हुए लॉकडाउन (Lockdown) में उन्हीं जगहों पर फंसकर रह गए थे. लेकिन केंद्र सरकार की गाइडलाइंस के बाद अब उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adiyanath) सरकार ने उन्हें घर पहुंचाने की व्यवस्था कर दी है.



यूपी रोडवेज के लखनऊ स्थित क्षेत्रीय प्रबंधक पल्लव कुमार बोस ने बताया कि फिलहाल उत्तराखंड और राजस्थान में फंसे लोगों को लाने के लिए योगी सरकार ने यूपी रोडवेज की साढ़े तीन सौ बसें लगाई हैं. इनमें से 250 बसें राजस्थान में फंसे यूपी के लोगों को लाएंगी, जबकि 100 बसें उत्तराखंड में फंसे लोगों को लाने के लिए लगाई गई हैं.



फंसे हुए लोगों को करना होगा ये काम





पीके बोस बताते हैं कि जो लोग जहां कहीं भी फंसे हैं, उन्हें सिर्फ अपने जिले के कोविड-19 कंट्रोल रूम के हेल्पलाइन नंबर या नोडल ऑफिसर के फोन नंबर पर कॉल करना होगा. कोई अगर जाना चाहे तो जिलाधिकारी के दफ्तर भी जा सकता है. वहां कॉल करके उसे अपना नाम, वर्तमान और स्थाई पता जहां वह जाना चाहता है कि डिटेल्स देनी होंगी. इसके बाद संबंधित अधिकारी उस व्यक्ति को खुद ही लेकर बॉर्डर तक आएंगे. जहां  खड़ी यूपी रोडवेज की बसें उन्हें पिक कर लेंगी.
यूपी सरकार की मुफ्त है ये सेवा, कोई पैसा मांगे तो करें शिकायत



बोस कहते हैं कि सरकार की यह स्कीम मुफ्त है. इसके लिए यात्रियों को कोई पैसा नहीं देना है. अगर कोई व्यक्ति टिकट का पैसा मांगता है तो बस में लिखे हेल्पलाइन नंबर पर तत्काल कॉल कर सकते हैं.



राजस्थान से छह हजार, उत्तराखंड से आने हैं 2000 लोग



फिलहाल राजस्थान से छह हजार लोग यूपी आने की प्रतीक्षा कर रहे हैं. इनके लिए पिकिंग पॉइंट मथुरा बनाया गया है. राजस्थान के अधिकारी यात्रियों को यहीं छोड़कर जाएंगे. जहां लगीं 250 बसें इन्हें गंतव्य तक पहुंचाएंगी. इसके साथ ही उत्तराखंड के लिए दो पॉइंट बनाए गए हैं. एक हरिद्वार और एक बरेली. यहां से दो हजार लोग अपने-अपने घरों तक पहुंचने की प्रतीक्षा कर रहे हैं. यहां रोडवेज की 100 बसें लगेंगी.



सोशल डिस्टेंसिंग का होगा पालन, एक बस में होंगे 25 यात्री



रोडवेज ने बसों में सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए कड़े निर्देश दिए हैं. एक बस में सिर्फ 25 यात्री ही बिठाये जाएंगे. इस दौरान यात्रियों को मास्क, ग्लव्स और सैनेटाइजर दिया जाएगा. कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए सरकार ने इन लोगों को यूपी लाने के दौरान हर नियम का पालन करने के निर्देश दिए हैं.



ये भी पढ़ें-



Covid 19: किसने कहा, हम 500ml प्लाज़्मा ही नहीं खून की आखिरी बूंद भी देने को तैयार



Lockdown: सरकार के मना करने के बाद भी यह App किया यूज़, हैकर अब मांग रहे रैनसम मनी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज