Home /News /uttar-pradesh /

yogi sarkar 2 bjp planing to damage samajwadi party baston with jayveer singh know planing

Yogi Sarkar 2.0: जयवीर सिंह को मंत्री बनाने के पीछे बीजेपी की है बड़ी प्लानिंग, समझें पूरा खेल

राजनीतिक पंडित मानते हैं कि 2024 के संसदीय चुनाव में भाजपा मैनपुरी लोकसभा सीट से जयवीर सिंह को अपना उम्मीदवार भी बना सकती है.

राजनीतिक पंडित मानते हैं कि 2024 के संसदीय चुनाव में भाजपा मैनपुरी लोकसभा सीट से जयवीर सिंह को अपना उम्मीदवार भी बना सकती है.

जयवीर सिंह कोई पहली दफा उत्तर प्रदेश में मंत्री नहीं बने हैं. इससे पहले भी जयवीर सिंह बसपा, सपा सरकारों में मंत्री के रूप में काम कर चुके हैं. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के मजबूत किले के रूप में जाने और पहचाने वाले मैनपुरी से पहली दफा जीत हासिल करने वाले जयवीर सिंह (Jayveer Singh) योगी सरकार (Yogi Sarkar 2.0) में मंत्री बनाकर भाजपा ने नया दांव चल दिया है.

अधिक पढ़ें ...

इटावा/मैनपुरी. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के मजबूत किले के रूप में जाने और पहचाने वाले मैनपुरी से पहली दफा जीत हासिल करने वाले जयवीर सिंह (Jayveer Singh) योगी सरकार (Yogi Sarkar 2.0) में मंत्री बनाकर भाजपा ने नया दांव चल दिया है. कभी समाजवादी गढ़ के रूप में पहचाने जाने वाले आगरा, इटावा, फिरोजाबाद, कन्नौज, एटा, फर्रूखाबाद आदि संसदीय सीटों पर भाजपा का झंडा फहरा रहा है, लेकिन मैनपुरी संसदीय सीट पर कब्जा करने की बीजेपी की मंशा अर्से से पूरी नहीं हो पा रही है. जयवीर सिंह ठाकुर बिरादरी से ताल्लुक रखने वाले नेता हैं और मैनपुरी संसदीय सीट पर ठाकुर जाति के मतदाताओं की तादात ठीक-ठाक तो है ही ओबीसी मतदाता भी खासी तादात में हैं. इसी वजह से बीजेपी सपा की मजबूत घेराबंदी करके मैनपुरी संसदीय सीट पर कब्जा करने का मन बनाए हुए है.

राजनीतिक पंडित मानते हैं कि 2024 के संसदीय चुनाव में भाजपा इस सीट से जयवीर सिंह को अपना उम्मीदवार भी बना सकती है. पिछले साल हुए पंचायत चुनाव में भाजपा ने 30 साल से सपा के कब्जे वाली जिला पंचायत सीट पर अर्चना भदौरिया के रूप में कब्जा तो किया ही साथ ही 9 ब्लॉक प्रमुख सीटों में से 7 पर बीजेपी के ही ब्लाक प्रमुख बने हैं. ये कुछ ऐसे उदाहरण हैं, जो भाजपा को मजबूती प्रदान करते हुए दिखाई दे रहे हैं.

सपा के गढ़ में सेंध लगाने की प्लानिंग
असल में भारतीय जनता पार्टी यह सोच करके चल रही हैं कि साल 2024 में होने वाले संसदीय चुनाव में भारतीय जनता पार्टी किस तरह से समाजवादी गढ़ में फायदा लिया जाए, इसी लिहाज से जयवीर सिंह को योगी सरकार में शामिल करके मंत्री बनाया गया है. जयवीर सिंह के जरिये भाजपा मैनपुरी संसदीय सीट पर कब्जा करने के साथ-साथ कन्नौज ओर फ़िरोज़ाबाद संसदीय सीट पर भी अपनी जड़ें मजबूत रखना चाहती है.

ये भी पढ़ें- योगी सरकार 2.0 की पहली कैबिनेट मीटिंग आज, हो सकता है कोई बड़ा ऐलान

जयवीर ने छीनी सपा के कब्जे वाली सीट
जयवीर सिंह कोई पहली दफा उत्तर प्रदेश में मंत्री नहीं बने हैं. इससे पहले भी जयवीर सिंह बसपा, सपा सरकारों में मंत्री के रूप में काम कर चुके हैं. पिछले दो विधानसभा चुनाव से सपा के कब्जे में रही सीट इस बार भगवा लहर में भाजपा की झोली में चली ही गई. मैनपुरी विधानसभा सीट पर इस बार सपा और भाजपा ने अपना पूरा दम झोंक रखा था. भाजपा ने सभी अटकलों को खत्म कर पूर्व मंत्री रहे जयवीर सिंह पर भरोसा जताया था और सदर सीट से लड़ाया था. इसका परिणाम ये रहा कि लगातार 10 वर्षों से सपा के कब्जे में रही विधानसभा सीट को भाजपा ने अपनी योजनाओं और रणनीति के बूते छीन लिया. इस सीट पर जयवीर सिंह को 99,814 वोट मिले, जबकि प्रतिद्वंदी सपा प्रत्याशी राजकुमार यादव 93,048 वोट मिले. दोनों के बीच कांटे की टक्कर हुई लेकिन जीत का सेहरा जयवीर सिंह के सिर पर सजा.

अमेठी : जाली दस्तावेजों के सहारे नौकरी कर रहे थे 5 शिक्षक, BSA ने दिए FIR के आदेश, पूरे वेतन की भी होगी वसूली

ग्राम प्रधान से शुरू किया सियासी करियर
जयवीर सिंह का जन्म 2 अक्तूबर 1958 को फिरोजाबाद जिले के गांव करहरा में हुआ. उनके पिता वेदपाल सिंह एक साधारण व्यक्ति थे. जयवीर सिंह की प्राथमिक शिक्षा सिरसागंज के एक स्कूल से हुई. जयवीर सिंह इंटरमीडिएट तक पढ़े हैं और उनकी संपत्ति 4 करोड 12 करोड़ रुपये है. लोगों की मदद में आगे रहने वाले जयवीर सिंह ने अपना पहला चुनाव ग्राम प्रधान का लड़ा. वो अपने गांव करहरा के ग्राम प्रधान चुने गए. इसके बाद वो कांग्रेस में शामिल हो गए. उन्हें कांग्रेस का ब्लाक अध्यक्ष बनाया गया था.

जयवीर पहली बार 2002 के चुनाव में मैनपुरी जिले की घिरोर से विधायक चुने गए. साल 2003 में उन्हें चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री बनाया गया. वो 2007 में दोबारा विधायक चुने गए. वह मायावती की सरकार में सिंचाई यांत्रिक विभाग के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनाए गए.

जयवीर सिंह के साथ उनके परिवार के सदस्य भी राजनीति में सक्रिय हैं. उनकी पत्नी रीता सिंह जिला सहकारी बैंक जनपद फिरोजाबाद की अध्यक्ष रह चुकी हैं. जयवीर सिंह के 2 बेटे हैं. उनके बेटे अतुल प्रताप सिंह अभी फिरोजाबाद जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष हैं. उनकी पत्नी अमृता सिंह ब्लॉक प्रमुख हैं. वहीं जयवीर सिंह के दूसरे बेटे सुमित प्रताप सिंह परिवार का व्यवसाय संभालते हैं. उनकी पत्नी हर्षिता सुमित प्रताप सिंह फिरोजाबाद की जिला पंचायत अध्यक्ष है. ठाकुर जयवीर सिंह का परिवार व्यवसाय से जुड़ा हुआ है. उनका परिवार कोल्ड स्टोरेज, पेट्रोल पंप, रिजार्ट और गाड़ियों के व्यवसाय से जुड़ा हुआ है.

Tags: Samajwadi party, UP BJP, UP news, Yogi government

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर