इस्लाम के काफी करीब है नाथ पंथ, इसमें मुख्य पुजारी को कहा जाता है पीर: योगी सूरजनाथ

गोरखपुर मंदिर पहुंचे योगी सूरज नाथ ने नाथ पंथ को इस्लाम के काफी करीब बताया है.

गोरखपुर मंदिर पहुंचे योगी सूरज नाथ ने नाथ पंथ को इस्लाम के काफी करीब बताया है.

नाथ पंथ आयोजित अंतरराष्ट्रीय सेमिनार में गोरखपुर (Gorakhpur) पहुंचे महाराष्ट्र के योगी सूरजनाथ (Yogi Surajnath) ने गोरक्षनाथ मंदिर (Gorakshnath Temple) के दर्शन किये. उन्होंने कहा कि नाथ संप्रदाय इस्लाम के बड़े करीब है. इसमें मुख्य पुजारी को पीर कहा जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 11:47 PM IST
  • Share this:
गोरखपुर. नाथ पंथ पर हुए तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सेमिनार में शिरकत करने गोरखपुर (Gorakhpur) पहुंचे महाराष्ट्र के अहमदनगर के रहने वाले योगी सूरजनाथ (Yogi Surajnath) ने मंगलवार को गोरक्षनाथ मंदिर (Gorakshnath Temple) के साथ-साथ इमामबाड़ा में 300 वर्षों से अधिक समय से जल रही बाबा रोशन अली शाह की धूनी के दर्शन किये. इसके बाद दरगाह हजरत मुबारक खां शहीद पहुंचे और यहां पर भी चारदपोशी की.

सूरज नाथ जी महाराज ने कहा कि नाथ संप्रदाय को किसी खास धर्म या मजहब से जोड़कर नहीं बल्कि मानवता और मानव कल्याण से जोड़कर देखा जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि गोरखपुर वाणी में मोहम्मद साहब के बारे में भी कहा गया है. सभी धर्मों का सार मानवता प्रेम और भाईचारा है. साथ ही कहा कि नाथ पंथ इस्लाम के भी काफी करीब है इसलिए हमारे यहां मुख्य पुजारी को पीर भी कहते हैं.

योगी सरकार के मंत्री ने मस्जिद से अजान की आवाज पर जताई आपत्ति, जिलाधिकारी को लिखा पत्र

योगी सूरज नाथ महाराज ने कहा कि उन्हें इस्लाम से नहीं मोहम्मद साहब की बातों से लगाव है. उन्होंने 1400 साल पहले समानता मानवता और महिलाओं की सुरक्षा और उन्हें बराबरी का हक देने की बात कही थी. जिस पर तमाम देशों द्वारा 20वीं सदी में कानून बनाये जा रहे हैं. साथ ही कहा कि मुहम्मद साहब के प्रति गोरखनाथ जी का विलक्षण प्रेम था. नाथ पंथ ओपन है. अलग शब्द नहीं है.
इसके पहले गोरखपुर विवि में आयोजित तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सेमिनार में नाथ पंथ के देश-विदेश के 500 से अधिक विद्वानों ने शिरकत की. पहले दिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सेमिनार का उद्घाटन करते हुए कहा था कि नाथ पंथ का विस्तार विश्व के कई देशों में है. भारत, पाकिस्तान, बंग्लादेश, नेपाल के साथ-साथ विश्व के कई हिस्सों में नाथपंथ के अनुवाई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज