होम /न्यूज /उत्तराखंड /अल्मोड़ा: 9 महीने में 1100 लोगों को आवारा कुत्तों और 144 को बंदरों ने काटा, जनता में दहशत

अल्मोड़ा: 9 महीने में 1100 लोगों को आवारा कुत्तों और 144 को बंदरों ने काटा, जनता में दहशत

उत्तराखंड के अल्मोड़ा शहर में दिन-प्रतिदिन आवारा जानवरों का आतंक बढ़ता ही जा रहा है. अल्मोड़ा में आवारा कुत्ते और कटखान ...अधिक पढ़ें

रोहित भट्ट/अल्मोड़ा. उत्तराखंड के अल्मोड़ा शहर में बंदर और कुत्तों ने लोगों की परेशानी बढ़ा दी है. यह जानवर राहगीरों पर अचानक ही हमला कर देते हैं. हर एक जगह पर यह आवारा कुत्ते आपको देखने के लिए मिल जाते हैं. यह कुत्ते लोगों को काट रहे हैं और उन्हें जख्मी कर रहे हैं, तो वही कटखने बंदर भी राहगीरों पर हमला बोल रहे हैं. अल्मोड़ा के जिला अस्पताल में कुत्ते, बंदर और बिल्ली के काटे हुए मरीज अस्पताल में एंटी रेबीज इंजेक्शन लगाने के लिए पहुंचते हैं.

अल्मोड़ा जिला अस्पताल में जब हमने कुत्ते और बंदरों के कांटे लोगों के बारे में पता किया, तो जानकारी मिली कि साल 2022 करीब 1100 लोगों को कुत्ता और बंदर काट चुके हैं. जनवरी से लेकर अगस्त तक आवारा कुत्तों ने 943 और कटखने बंदरों ने 144 लोगों को काटा. जो जिला अस्पताल में मरीज एंटी रेबीज इंजेक्शन लगाने के लिए पहुंच रहे हैं. यहां एंटी रैबीज लगाने के लिए रोजाना 8 से 10 मरीज यहां पहुंच रहे हैं.

घर में घुसकर काट रहे बंदर
बंदर के हमले से एंटी रेबीज इंजेक्शन लगाने पहुंची सोना जोशी ने बताया उन्हें अपने घर में ही कटखाने बंदर ने काटकर जख्मी कर दिया है लगातार ये किसी ना किसी पर हमला कर रहे हैं इसको लेकर पालिका और प्रशासन को देखने की जरूरत है. बंदर और कुत्तों का आतंक इस तरह से लग रहा है जैसे कोई आपदा आई हो. नगरपालिका के ईओ भरत त्रिपाठी ने बताया कि कुत्तों और बंदरों का समय समय पर बंध्याकरण किया जाता है उसको लेकर पालिका लगातार काम कर रही है इसको लेकर पालिका ने कई कंपनियों को निविदा भेजी है जैसे ही कोई निविदा डालेगा, उसके बाद इन आवारा कुत्ते और बंदरों का बंध्याकरण किया जाएगा.

Tags: Almora News, Uttarakhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें