सोनापानी में फंसे एक्टर दीपक डोबरियाल, बोले- स्‍वर्ग में ले रहा हूं लॉकडाउन का आनंद
Almora News in Hindi

सोनापानी में फंसे एक्टर दीपक डोबरियाल, बोले- स्‍वर्ग में ले रहा हूं लॉकडाउन का आनंद
दीपक डोबरियाल ने देशवासियों से भी अपील की है कि वह पूरी ईमानदारी के साथ लॉगडाउन का पालन करें और सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें.

फिल्‍म एक्टर दीपक डोबरियाल (Film actor Deepak Dobriyal) सोनापानी (Sonapani) में खुद को व्‍यस्‍त रखने के लिए कभी खेत में काम करते हैं, तो कभी स्क्रिप्ट राइटिंग करते हैं.

  • Share this:
अल्‍मोड़ा. फिल्‍म ओंकारा से लेकर तन्नू वेड्स मन्नू समेत दर्जनों फिल्मों में काम कर चुके फिल्‍म एक्टर दीपक डोबरियाल (Film actor Deepak Dobriyal) अल्मोड़ा के सोनापानी क्षेत्र में फंसे हुए हैं. उनके साथ फिल्‍म क्रू के दस सदस्य भी मौजूद हैं. दरअसल, एक फिल्म की शूटिंग के सिलसिले में एक्टर मनोज वाजपेई (Manoj Bajpai) के साथ वह 10 मार्च को उत्तराखंड पहुंचे थे. इसके बाद, सभी अल्मोड़ा के सोनापानी (Sonapani) क्षेत्र में शूटिंग के लिए चले गए थे.

उत्‍तराखंड के अल्‍मोड़ा जिले के अंतर्गत आने वाले सोनापानी में करीब 5 दिन तक शूटिंग चली. इसी बीच, अचानक लॉकडाउन घोषित हो गया और उनकी पूरी फिल्म यूनिट सोनापानी में ही फंस गई. जिसके बाद, मनोज वाजपेई, दीपक डोबरियाल व अन्य सदस्यों को सोनापानी ही रुकना पड़ा. अब सभी लॉकडाउन खुलने का इंतजार कर रहे हैं. सोनापानी में खुद को व्‍यस्‍त रखने के लिए डोबरियाल कभी खेत में काम करते हैं, तो कभी स्क्रिप्ट राइटिंग करते हैं.


मैं स्‍वर्ग में लॉकडाउन हूं: दीपक डोबरियाल
न्यूज18 को भेजे एक वीडियो मैसेज में दीपक डोबरियाल कहते हैं कि मैं स्वर्ग में लॉकडाउन हूं. उत्तराखंड और खासकर कुमाऊं की प्राकृतिक सुंदरता को देख गदगद दीपक डोबरियाल कहते हैं कि उनके बहुत से दोस्त उनसे फोन पर बातचीत कर जेलस फील कर रहे हैं कि लॉकडाउन भी हुआ तो इतनी खूबसूरत जगह पर. दीपक डोबरियाल का कहना है कि वो यहीं से मुंबई अपने घर पर वीडियो कॉल के जरिए हालचाल जान लेते हैं.



ईमानदारी से करें लॉकडाउन का पालन
उन्होंने देशवासियों से भी अपील की है कि वह पूरी ईमानदारी के साथ लॉगडाउन का पालन करें और सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें. उल्‍लेखनीय है कि दीपक डोबरियाल मूलतः उत्तराखंड के पौड़ी जिले के रहने वाले हैं, लेकिन लॉकडाउन के कारण वह राज्य के दूसरे हिस्से में फंसे हुए हैं और इतने पास होते हुए भी अपने गृह क्षेत्र पौड़ी नहीं जा सकते हैं. हालांकि, उन्हें इसका कोई मलाल भी नहीं है.

यह भी पढ़ें: 

उत्‍तराखंड पुलिस ने इस सिपाही अनूठी पहल, हर सिपाही एक परिवार को ले रहा है गोद

मुखमरी की कगार पर खड़े मजदूरों को अभी भी है खातों में 1000 रुपए आने का इंतजार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading