Home /News /uttarakhand /

रानीखेत के बिनसर महादेव मंदिर में है आदिकाल का शिवलिंग, 1970 से जल रही अखंड ज्योत

रानीखेत के बिनसर महादेव मंदिर में है आदिकाल का शिवलिंग, 1970 से जल रही अखंड ज्योत

बिनसर

बिनसर महादेव मंदिर में विदेशी श्रद्धालु भी आते हैं.

गुस्साए मनिहार ने गाय को धक्का देकर कुल्हाड़ी से पत्थर पर प्रहार कर दिया.

    रानीखेत के बिनसर में श्री स्वर्गाश्रम बिनसर महादेव मंदिर (Binsar Mahadev Temple Ranikhet) आदिकाल का बताया जाता है. कुछ जानकारों का मानना है कि यह मंदिर 600 साल पुराना है. इस मंदिर में स्वयंभू शिवलिंग है. एक मान्यता के अनुसार, किसी समय पर बिनसर के पास स्थित सौनी गांव में मनिहार रहते थे. बताया जाता है कि जब इस जंगल में गायें चरने के लिए जाती थीं, तो वापस लौटने के बाद एक गाय का दूध निकला रहता था.

    एक दिन मनिहार ने उस गाय का पीछा किया, तो देखा कि जंगल में एक पत्थर के ऊपर खड़ी होकर गाय दूध छोड़ रही थी और पत्थर वह दूध पी रहा था.गुस्साए मनिहार ने गाय को धक्का देकर कुल्हाड़ी से पत्थर पर प्रहार कर दिया. इससे उस पत्थर से खून की धार बहने लगी. शिवलिंग पर आज भी कुल्हाड़ी के वार के निशान दिखाई देते हैं.

    बताते चलें कि इस मंदिर में 1970 से अखंड ज्योत जल रही है. मंदिर में करीब 12 भगवानों की मूर्ति स्थापित है. बिनसर महादेव मंदिर देवदार और चीड़ के पेड़ों से घिरा हुआ है. देश ही नहीं बल्कि विदेशों से श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर