होम /न्यूज /उत्तराखंड /पत्थर और मिट्टी से बने घर में वर्क फ्रॉम होम कर रहे लोग, अल्मोड़ा में सैलानियों को खूब भा रहा होम-स्टे

पत्थर और मिट्टी से बने घर में वर्क फ्रॉम होम कर रहे लोग, अल्मोड़ा में सैलानियों को खूब भा रहा होम-स्टे

अल्मोड़ा में आने वाले पर्यटक होम-स्टे को पसंद कर रहे हैं. इसके मद्देनजर डीएम ने बीते दिनों एक होम-स्टे का निरीक्षण किया.

अल्मोड़ा में आने वाले पर्यटक होम-स्टे को पसंद कर रहे हैं. इसके मद्देनजर डीएम ने बीते दिनों एक होम-स्टे का निरीक्षण किया.

Home-Stay in Almora: वर्क फ्रॉम होम कल्चर के बीच उत्तराखंड में होम-स्टे कल्चर तेजी से बढ़ा हैं. सरकार बीते सालों में इस ...अधिक पढ़ें

अल्मोड़ा. जब भी बात खूबसूरत और शांत वादियों की आती है तो मन में उत्तराखंड का जिक्र जरूर आता है. कोरोना काल में पर्यटकों की संख्या कम हो गई थी, लेकिन उसके बाद से पिछले कुछ महीनों में राज्य में पर्यटकों का आना काफी बढ़ा है. लोग घरों में कैद होकर काम करने की बजाये पहाड़ की वादियों में कुदरती सौंदर्य के बीच आकर छुट्टियां बिता रहे हैं. कई लोग तो यहीं से अपने ऑफिस का काम करते हैं और होम स्टे का लुत्फ उठाते हैं. खासकर मिट्टी और पत्थर से बने घरों में रहना बाहर से आने वालों को काफी पसंद आता है.

अल्मोड़ा जिले में साल-दर-साल तेजी से पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है. कोरोना के बाद ऐसे पर्यटकों में होम-स्टे चाहने वालों की संख्या बढ़ी है. इस कारण जिले के ग्रामीण इलाकों में लोग बड़ी तेजी से अपने घरों को होम-स्टे के रूप में ढाल रहे हैं. जनपद में एक दर्जन गांव ऐसे हैं जिन्होंने अपने पुराने घरों को पर्यटकों के लिए तैयार किया है. इससे न सिर्फ स्थानीय लोगों को पर्यटन से रोजगार मिल रहा है, बल्कि स्थानीय उत्पादों को बाजार भी मिल रहा है.

कुमाऊंनी शैली के घर हैं पसंद
पर्यटन को पहाड़ की अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी कहा जाता है. अल्मोड़ा जिले में हजारों की संख्या में देशी और विदेशी पर्यटक हर साल पहुंचते हैं. अल्मोड़ा के काफी होम स्टे में कुमाऊंनी शैली के घरों की झलक देखने को मिलती है. इस शैली की यह खासियत होती है कि यह कमरे गर्मियों के मौसम में ठंड और सर्दी के मौसम में गर्मी का अहसास देते हैं. जिलाधिकारी वन्दना ने होम-स्टे का निरीक्षण कर बताया कि कई गांवों में होम-स्टे का निर्माण किया गया है. यहां आने वाले पर्यटकों को पत्थर और मिट्टी के घर पसंद हैं. प्रशासन इन गांवों में सुविधाओं को और बेहतर बना रहा है. गांवों में पर्यटकों के लिए बेहतर सुविधाएं देने की योजना बनाने के निर्देश भी दिए गए है.

राज्य में पर्यटन पर हजारों लोगों की आजीविका जुड़ी है. पर्यटक बेहतर होटलों के बजाय मिट्टी और पत्थरों के घरों में रहना पसंद कर रहे हैं. जिस गति से पिछले एक दशक में पहाड़ में होम-स्टे बढ़े है इससे युवाओं को रोजगार मिलेगा और पर्यटक पहाड़ी कल्चर के साथ ही ऑर्गेनिक खाने का भी लुत्फ उठा सकेंगे.

Tags: Almora News, Uttarakhand Latest News

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें