बंदरों के आतंक से निपटने को आ गई 'मंकी गन', एक फायर में करती है कमाल

अल्मोड़ा में बंदरों के आंतक से किसान ही नहीं, शहर में रहने वाले लोग भी परेशान है. आये दिन बंदर लोगों पर हमला कर रहे है.

Kishan Joshi | News18 Uttarakhand
Updated: July 2, 2019, 4:38 PM IST
Kishan Joshi | News18 Uttarakhand
Updated: July 2, 2019, 4:38 PM IST
अल्मोड़ा में बंदरों के आतंक से किसान ही नहीं, शहर में रहने वाले लोग भी परेशान है. आये दिन बंदर लोगों पर हमला कर रहे है. जिससे स्कूली बच्चें और स्थानीय लोग परेशान हैं. बंदरों की समस्या से  निजात दिलाने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ने बर्ड एवं मंकी गन का निर्माण किया है. जो बंदरों को रिहायशी इलाके से दूर भगाने का काम करेंगी. भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान 4 जुलाई को अपने स्थापना के मौके पर ये गन लोगों को समर्पित करेगा.

एक फायर की कीमत 30 पैसे

वीपीकेएस ने भारतीय कृषि अनुसंधान के साथ मिलकर मंकी गन की टेस्टिंग पूरी कर ली है. इस गन से बंदरों को भगाने में एक फायर की कीमत सिर्फ 30 पैसा पड़ेगी. संस्थान इस गन के सफल प्रयोग के बाद अब किसानों और स्थानीय लोगों को गन के वितरण करने की तैयारी कर रहा है. संस्थान ने शहर के कई स्थानों पर इस गन का इस्तेमाल करके देखा, जिससे एक ही फायर से बंदर कई किलोमीटर दूर भाग गए.

इस मंकी गन से लोगों को बंदरों से तो मुक्ति मिलेगी ही, साथ ही इस गन का इस्तेमाल सुअरों को भगाने में भी किया जा सकेगा. अल्मोड़ा के लोग इस गन का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं और इस गन के निर्माण के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान का धन्यवाद भी कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- रुद्रपुर में दो हाथियों की मौजूदगी के चलते दहशत का माहौल, मौके पर वन विभाग व पुलिस

उत्तराखंड में हार के बाद भी कांग्रेस के दिग्गज चल रहे अपनी राह
First published: July 2, 2019, 2:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...