होम /न्यूज /उत्तराखंड /

UK Election: इस विधानसभा सीट पर दिलचस्प मुकाबला, पति के खिलाफ चुनाव मैदान में पत्नी

UK Election: इस विधानसभा सीट पर दिलचस्प मुकाबला, पति के खिलाफ चुनाव मैदान में पत्नी

अल्मोड़ा ज़िले में एक पति पत्नी एक दूसरे के विरुद्ध चुनाव लड़ रहे हैं.

अल्मोड़ा ज़िले में एक पति पत्नी एक दूसरे के विरुद्ध चुनाव लड़ रहे हैं.

Uttarakhand Elecion : विधानसभा चुनावों (Assembly Elections 2022) के इस मौसम में एक परिवार के भीतर ही विरोधी पार्टी के प्रतिद्वंद्वी होना नयी बात नहीं है. ताज़ा चर्चाएं हैं कि BJP की सांसद रीता बहुगुणा जोशी (Rita Bahuguna Joshi) के बेटे मयंक जोशी (Mayank Joshi) समाजवादी पार्टी का दामन थाम सकते हैं क्योंकि उन्हें लखनऊ कैंट (Lucknow Cantt Constituency) से भाजपा ने टिकट नहीं दिया है. इधर, उत्तराखंड में भी एक अनोखा चुनावी रण सामने आ रहा है, जहां एक विवाहित जोड़ा एक दूसरे के खिलाफ चुनाव मैदान में ताल (Couple Contesting Election) ठोक रहा है.

अधिक पढ़ें ...

अल्मोड़ा. विधानसभा चुनाव में मुकाबला दिलचस्प दिखने लगा है. कहीं सियासी पार्टियों के बागी अपनी ही पार्टी के खिलाफ चुनाव मैदान में उतर गए हैं, तो एक सीट ऐसी भी है, जहां एक घर के भीतर ही मुकाबला हो रहा है. एक पत्नी ने विधायक का चुनाव लड़ने के लिए अपने पति के खिलाफ ही नामांकन भर दिया है. इस रोचक मुकाबले के चलते उत्तराखंड की सोमेश्वर विधानसभा चर्चा में आ गई है, जहां इस वक्त भाजपा का कब्ज़ा है. 2017 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के खिलाफ कड़े मुकाबले में भाजपा की रेखा आर्य ने सोमेश्वर सीट जीती थी.

अल्मोड़ा ज़िले की सोमेश्वर विधानसभा सीट से एक पति और एक पत्नी विधानसभा चुनाव में बतौर प्रत्याशी खड़े हुए हैं. समाचार एजेंसी एएनआई की​ रिपोर्ट के अनुसार समाजवादी पार्टी ने बलवंत आर्य को टिकट दिया है, तो उनकी पत्नी मधुबाला आर्य निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर यहां से नामांकन भर चुकी हैं. दोनों ने एक ही सीट से एक दूसरे के खिलाफ नामांकन दाखिल किया और नाम वापस लेने की आखिरी तारीख के बाद भी चुनाव मैदान में डटे रहने का ही फैसला किया. अब इस सीट पर मज़ेदार बात यह हो गई कि ये पति पत्नी एक दूसरे के खिलाफ चुनाव प्रचार करते देखे जा रहे हैं.

तीन आर्य और कौन? कितने हैं प्रमुख उम्मीदवार?
भाजपा ने इस बार भी सोमेश्वर से कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य को ही टिकट दिया है. कांग्रेस की तरफ से राजेंद्र बाराकोटी उम्मीदवार हैं, तो आम आदमी पार्टी ने यहां हरीश चंद्र को टिकट दिया है. बलवंत आर्य और मधुबाला आर्य एक दूसरे के खिलाफ चुनाव प्रचार में तो डटे ही हैं. पति पत्नी के इस समीकरण के चलते यह चुनावी चर्चा भी होने लगी है कि चुनाव के इस मौसम में क्या ऐसे और भी उदाहरण हैं?

चुनाव का रण और परिवार के भीतर संग्राम
अगर इसे परिवार के भीतर ही एक दूसरे के विरोध में चुनाव लड़ने का उदाहरण समझा जाए, तो इस विधानसभा चुनाव में ऐसी मिसालें और भी हैं. उत्तर प्रदेश में सपा के प्रमुख मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव ने हाल में भाजपा जॉइन कर ली है. इसी तरह, भाजपा के पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद ने सपा का दामन थामा है, जबकि उनकी बेटी संघमित्रा मौर्य भाजपा के टिकट पर ही बदायूं से सांसद हैं.

Tags: Uttarakhand Assembly Election, Uttarakhand politics

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर