Home /News /uttarakhand /

kosi barrage provides water to the entire city of almora localuk

Almora की 1 लाख की आबादी को पेयजल देता है कोसी बैराज, जानिए आपके घर कैसे पहुंचता है पानी?

अल्मोड़ा के कई इलाकों में बारिश के मौसम में पीने के पानी की समस्या खड़ी हो जाती है. पर क्यों? ये भी जानिए कि कोसी नदी का पानी एक पूरे शहर की प्यास बुझाने से पहले किस तरह फिल्टर किया जाता है और किस तरह इसकी सप्लाई होती है.

(रिपोर्ट- रोहित भट्ट)
अल्मोड़ा. उत्तराखंड के पहाड़ों में बसे शहर अल्मोड़ा की करीब एक लाख की जनसंख्या को शहर के कोसी बैराज (Kosi Barrage Almora) से पीने का पानी मिलता है. यह बैराज अल्मोड़ा से तकरीबन 15 किलोमीटर की दूरी पर है. साल 2013 में कोसी बैराज की नींव रखी गई थी. इससे पहले, इसी कोसी नदी से लोगों को करीब 6 एमएलडी पानी मिल पाता था, पर जब से कोसी बैराज बनकर तैयार हुआ है, तबसे शहरवासियों को करीब 16 एमएलडी पानी मिलता है.

जल संस्थान के जूनियर इंजीनियर अजय सिंह नेगी बताते हैं कि कोसी नदी का पानी हर समय बना नहीं रहता है. जब पानी कम होता है, तो बैराज का सेक्शन लेवल मेंटेन किया जाता है और यहां से पानी उठाया जाता है. जब बरसातों में पानी भर जाता है, तो उसके लिए बैराज के गेट खोले जाते हैं. जब बहुत कम हो जाता है तो गेट बंद करके उसका सेक्शन लेवल एक जैसा करना पड़ता है. यह तो हुई बैराज की बात, अब आपको बताते हैं कि आपके घर तक पानी कैसे पहुंचता है.

बैराज से वाया मटेलाआपके घर पहुंचता है पानी
नेगी ने आगे कहा कि बैराज के पानी को पंप करके मटेला में इसका फिल्टर किया जाता है. इसके बाद अल्मोड़ा की जनता को पेयजल मुहैया कराया जाता है. हालांकि बरसात के मौसम में कोसी नदी में सिल्ट आने की समस्या बनी रहती है, जिसकी वजह से पेयजल आपूर्ति प्रभावित होती है. फिर भी इस फिल्टर के ज़रिये ही पूरे शहर में सप्लाई होती है.

कोसी बैराज से पानी की पंपिंग के लिए मटेला में लगाए गए फिल्टर से पानी को साफ करके अल्मोड़ा के तीन ज़ोन में भेजा जाता है. पहला एडम्स, दूसरा पाताल देवी और तीसरा सर्किट हाउस. तीनों जगह पानी के टैंक बनाए गए हैं, जिनमें यह पानी जाता है. उसके बाद अल्मोड़ा की आबादी को पानी मिल पाता है, पर इन दिनों बारिश की वजह से नदी में सिल्ट आ चुकी है इसलिए कई इलाकों में पानी की दिक्कत पैदा हो रही है.

अब सवाल है कि जब यहां से पानी नहीं मिलता तो क्या होता है? पेयजल आपूर्ति न होने से शहरवासियों को प्राकृतिक धारों और नौलों पर आश्रित रहना पड़ता है. पानी लेने के लिए इन जगहों पर लोगों की लंबी कतारें देखने को मिलती हैं.

Tags: Almora News, Drinking Water

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर