• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • निकाय चुनाव: बीजेपी व कांग्रेस के लिए सिरदर्द बने पार्टी के बागी उम्मीदवार

निकाय चुनाव: बीजेपी व कांग्रेस के लिए सिरदर्द बने पार्टी के बागी उम्मीदवार

अल्मोड़ा नगर पालिका में अध्यक्ष पद के लिए मतदान रोचक हो सकता है.

अल्मोड़ा नगर पालिका में अध्यक्ष पद के लिए मतदान रोचक हो सकता है.

अध्यक्ष पद के लिए 10 लोगों ने नामांकन किया है. राजनीतिक दलों को उम्मीद है कि उनके बागी नाम वापस ले ले लेंगे.

  • Share this:
1864 में स्थापित कुमाऊं की सबसे पुरानी पालिकाओं में से एक नगरपालिका अल्मोड़ा की है. यहां निकाय चुनाव में इस बार डबल इंजन की सरकार से भाजपा को सत्ता पाने की उम्मीद थी. लेकिन भाजपा के दो बागियों ने भाजपा की राह में कांटे बोना शुरू कर दिया है. वहीं कांग्रेस को भी लगातार सत्ता पाने में बागी ग्रहण लगा रहे हैं.

अल्मोड़ा नगर पालिका में एकाध ही मौका होगा जब भाजपा को पालिका में अध्यक्ष के नहीं होने से सत्ता चलाने का मौका मिला हो. इस बार उम्मीद थी कि भाजपा को मौका मिलेगा. लेकिन ऐसा लगता है कि बागी ऐसा नहीं होने देंगे. लेकिन भाजपा जिलाध्यक्ष गोविंद पिलख्वाल सबकुछ ठीक-ठाक होने की बात कर रहे हैं. पिलख्वाल का कहना है कि हम केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार की योजनाओं को लेकर आम जनता के बीच में जायेंगे. उन्होंने पार्टी में बगावत होने जैसी किसी भी बात से साफ इंकार कर दिया.

वहीं लगातार सत्ता में रही कांग्रेस को भी उनके बागी ही शक्ति प्रदर्शन कर सत्ता से बेदखल करना चाहते हैं. प्रदेश सचिव ने निर्दलीय नामांकन कर दिया है जबकि एक साथी ने कांग्रेस को धोखा देकर बसपा से नामांकन किया है. इस बारे में कांग्रेस के पूर्व विधायक मनोज तिवारी ने कहा कि सभी लोगों की कांग्रेस में आस्था है. पिछले पांच साल में नगरपालिका में जो विकास का काम किया है, उसे देखते हुए पूरी जनता कांग्रेस पर विश्वास व्यक्त करेगी. निकाय चुनाव में कांग्रेस का ही परचम लहरेगा. साथ ही उन्होंने कहा कि वे बागियों से नाम वापस लेने की भी अपील करेंगे.

बता दें कि 24 हजार मतदाताओं वाली इस नगर पालिका में दो नये वार्ड जुडे हैं. अध्यक्ष पद के लिए 10 लोगों ने नामांकन किया है. राजनीतिक दलों को उम्मीद है कि उनके बागी नाम वापस ले ले लेंगे. मौजूदा राजनीतिक हालत पर कहा जा सकता है कि इस बार अल्मोड़ा नगर पालिका में अध्यक्ष पद के लिए मतदान रोचक हो सकता है.

यह पढ़ें - स्थायी कैंपस व सुरक्षा की मांग को लेकर आंदोलनरत NIT के छात्रों ने संस्थान छोड़ा

यह देखें - VIDEO: SC का सकारात्मक फैसला आने तक नहीं होगी पेड़ों की कटाई

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज