लाइव टीवी

लॉकलाउन में 20 लाख के मास्क बनाकर बेच चुके हैं अल्मोड़ा के महिला समूह
Almora News in Hindi

Kishan Joshi | News18 Uttarakhand
Updated: May 21, 2020, 1:48 PM IST
लॉकलाउन में 20 लाख के मास्क बनाकर बेच चुके हैं अल्मोड़ा के महिला समूह
मांग बढ़ने पर अल्मोड़ा जिले के 2300 महिला समूहों ने मास्क बनाना शुरु किया था.

महिला समूह की एक सदस्य किरन बिष्ट बताती हैं कि सुबह पहले वह घर का काम करती हैं और फिर मास्क बनाती हैं.

  • Share this:
अल्मोड़ा. कोरोना वायरस, कोविड-19, की वजह से अर्थव्यवस्था तो चौपट हो ही गई है इसने जीने का तरीका भी बदल दिया है. कोरोना वायरस की वजह से आए संकट के बीच अल्मोड़ा में महिला सहायता समूहों ने काम और कमाने की राह भी निकाली. राज्य सरकार के फ़ेस मास्क पहनना अनिवार्य करने से पहले ही बाज़ार में फ़ेस मास्कों की कमी पड़ने लगी थी और ये महंगे भी मिलने लगे थे. अल्मोड़ा जिले के 2300 महिला समूहों ने मास्क बनाना शुरु किया और अब तक ये 20 लाख के मास्क बनाकर सराकरी विभागों और लोगों को बेच चुके हैं. इससे महिलाओं की रोजी-रोटी भी चली और लोगों को हस्त निर्मित मास्क मिल गए.

ऑर्डर आने जारी 

आजीविका परियोजना के परियोजना निदेशक कैलाश भट्ट ने बताया कि जब बाजार में मास्कों की भारी कमी हो रही थी तब आजीविका परियोजना द्वारा गठित महिला समूहों ने मास्क बनाने के काम शुरु किया. शुरु में डर यह था कि लोग हस्त निर्मित मास्क लेंगे या नहीं लेकिन जब तेजी से कई विभागों और संस्थाओं से ऑर्डर आया तो मास्क निर्माण तेज़ किया गया.



भट्ट बताते हैं कि अब तक 20 लाख रुपये के मास्क बेचे जा चुके हैं. इसके साथ ही अभी और आर्डर आ रहे है. इस मास्कों को धोकर दुबारा पहना जा सकता है.



almora women sewing mask2, महिला समूह की सदस्य किरन बिष्ट बताती हैं कि उन्होंने ये मास्क बनाकर अब तक 5000 रुपये कमाए हैं.
महिला समूह की सदस्य किरन बिष्ट बताती हैं कि उन्होंने ये मास्क बनाकर अब तक 5000 रुपये कमाए हैं.


घर का माहौल भी बदला 

ऐसे ही एक महिला समूह से जुड़ी हेमा बिष्ट कहती हैं कि वे लोग सिंगल और डबल लेयर मास्क बना रहे हैं. उनके समूह ने ही इन दो महीनों में 5 हजार मास्क बना दिए हैं, जिससे सभी महिलाओं को रोज़गार मिला इसके साथ ही लोगों को आसानी से मास्क मिल गए. वह बताती हैं कि हस्त निर्मित मास्कों की मांग तेज़ी से बढ़ रही है. लोग दूर-दूर से उनके मास्क मंगा रहे हैं.

हर सिंगल लेयर मास्क पर महिलाओं को 3 रुपये और डबल लेयर मास्क पर 5 रुपये मिलते हैं. महिला समूह की सदस्य किरन बिष्ट बताती हैं कि उन्होंने ये मास्क बनाकर अब तक 5000 रुपये कमाए हैं. वह बताती हैं कि सुबह पहले घर का काम करती हैं और फिर घर में ही मास्क बनाती हैं.

किरन बताती हैं कि वह कहती हैं कि अब उनके बच्चे और पति भी इस काम में उनकी मदद करने लगे हैं क्योंकि उन्हें लगने लगा है कि अब यह काम फ़ायदे का है. शुरुआत में वे लोग उनकी मदद नहीं करते थे.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अल्मोड़ा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 21, 2020, 1:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading