होम /न्यूज /उत्तराखंड /कौमी एकता की मिसाल है अल्मोड़ा की रामलीला, हिंदू-मुस्लिम मिलकर बनाते हैं रावण परिवार के पुतले

कौमी एकता की मिसाल है अल्मोड़ा की रामलीला, हिंदू-मुस्लिम मिलकर बनाते हैं रावण परिवार के पुतले

Dussehra of Almora: अल्मोड़ा में रावण परिवार के पुतले बनाने के लिए कलाकार रात-रातभर जगते हैं. कौमी एकता का यह उदाहरण दो ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट : रोहित भट्ट

अल्मोड़ा. अपने ऐतिहासिक धरोहरों की वजह से अल्मोड़ा को उत्तराखंड की सांस्कृतिक नगरी कहा जाता है. अल्मोड़ा का दशहरा भी मशहूर है. मैसूर और कुल्लू-मनाली के बाद अल्मोड़ा के दशहरे का देश में तीसरा स्थान है. यहां की रामलीला रावण परिवार के पुतलों के लिए भी खूब पहचानी जाती है. दशहरा के मौके पर यहां तकरीबन दो दर्जन पुतले बनाए जाते हैं. ये पुतले हिंदू-मुस्लिम एक साथ मिलकर बनाते हैं. गंगा-जमुनी यह तहजीब बहुत कम नगरों में देखने को मिलेगी.

रावण परिवार के पुतले बनाने के लिए कलाकार रात-रातभर जगते हैं. कौमी एकता का यह उदाहरण दो दशकों से चला आ रहा है. रामलीला के लिए पुतले बनाने हों या ताजिया – यहां हिंदू-मुस्लिम समुदाय मिलकर इन्हें बनाते हैं और आपसी सौहार्द का परिचय दे रहे हैं. बता दें कि दशहरे के दिन इन पुतलों को पूरे अल्मोड़ा में घुमाया जाता है और उसके बाद स्थानीय स्टेडियम में ले जाकर इन पुतलों का दहन किया जाता है.

शाहनवाज अंसारी ने बताया कि वे 20-25 सालों से रावण परिवार के पुतले बना रहे हैं. उन्होंने कहा कि ताजिया बनाने के लिए कई हिंदू भाई भी आते हैं और वे भी लगातार ताजिए बनाने के साथ दशहरे में पुतले बनाने का काम करते हैं. वे चाहते हैं कि यह प्रथा ऐसे ही चलती रहे और आने वाली पीढ़ियां इसका अनुशरण करें.

युवा कलाकार सनी अंसारी ने बताया कि वह लाला बाजार स्थित अक्षय कुमार के पुतले को करीब 5 से 6 सालों से बना रहे हैं. इस पुतले को बनाने से बहुत कुछ सीखने को मिलता है. इसमें क्राफ्ट वर्क के अलावा कई अन्य चीजें सीखने को मिलती हैं. वे लोग रावण परिवार के पुतले रातभर बनाते हैं.

अमन नज्जौन ने बताया कि अल्मोड़ा में हिंदू-मुस्लिम भाईचारा देखने को मिलता है. पिछले कई साल से यहां हिंदू भाई ताजिए बनाते हैं और मुस्लिम समुदाय के लोग रावण परिवार के पुतलों का निर्माण करते हैं. यह परंपरा कई सालों से चली आ रही है और इस परंपरा को बरकरार रखने के लिए सभी को आगे आना चाहिए.

Tags: Almora News, Ramlila, Uttarakhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें