Home /News /uttarakhand /

pine trees burnt and became dangerous forest fire almora localuk

अल्मोड़ा: जंगलों में थमी आग लेकिन कम नहीं हुई मुश्किल, अब 'चीड़ के पेड़' बने खतरा!

X

आग से चीड़ के पेड़ों को काफी नुकसान हुआ है और अब ये पेड़ खोखला होने से लोगों के लिए खतरा बन गए हैं.

    रिपोर्ट- रोहित भट्ट, अल्मोड़ा

    उत्तराखंड (Forest Fire in Uttarakhand) में वनाग्नि एक सबसे बड़ी समस्या है. गर्मियों के समय में यहां हजारों हेक्टेयर जंगल जलकर खाक हो जाते हैं, जिससे पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंचता है. अल्मोड़ा की बात करें तो अल्मोड़ा डिवीजन और सिविल स्वयं में इस साल करीब 813 हेक्टेयर जंगल जलकर खाक हो गए हैं.आग से चीड़ के पेड़ों को काफी नुकसान हुआ है और अब ये पेड़ खोखला होने से लोगों के लिए खतरा बन गए हैं.

    सड़क किनारे लगे चीड़ के पेड़ जहां राहगीरों के लिए खतरा बने हुए हैं, तो वहीं जंगलों में जल चुके पेड़ स्थानीय लोगों के लिए मुश्किल पैदा कर रहे हैं. स्थानीय निवासी जंगलों में गाय, बकरी चराने ले जाते हैं. वहीं गांव की महिलाएं अपने जानवरों का चारा लाने के लिए भी जंगलों के रुख करती हैं.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर