Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड में आपदा पर सियासत से याद आए विजय बहुगुणा, केदारनाथ त्रासदी के बाद गंवाई थी सत्ता

उत्तराखंड में आपदा पर सियासत से याद आए विजय बहुगुणा, केदारनाथ त्रासदी के बाद गंवाई थी सत्ता

Uttarakhand Politics: उत्तराखंड में आपदा पर कांग्रेस और भाजपा के बीच सियासी जंग छिड़ने से गर्माया चुनावी माहौल.

Uttarakhand Politics: उत्तराखंड में आपदा पर कांग्रेस और भाजपा के बीच सियासी जंग छिड़ने से गर्माया चुनावी माहौल.

Uttarakhand Election Politics: उत्तराखंड में इस महीने आई आपदा के बाद जिस तरह भाजपा और कांग्रेस के बीच सियासी उठा-पटक देखने को मिल रही है, उससे लोगों को केदारनाथ त्रासदी के बाद विजय बहुगुणा सरकार के सत्ता से हटने की याद ताजा हो आई है.

अधिक पढ़ें ...

अल्मोड़ा. उत्तराखंड में अगले साल विधानसभा के चुनाव होने हैं. इससे पहले अक्टूबर में आई आपदा ने प्रदेश के सियासी माहौल को गर्मा दिया है. आपदा के बाद पीड़ित लोगों का दर्द जानने और उनकी पीड़ा को कम करने को लेकर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा और प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के बीच होड़ मची है. दोनों दलों के नेता आपदा पीड़ितों के साथ दुख की घड़ी में उनके साथ खड़े होने का दावा कर रहे हैं. और इसके साथ ही एक-दूसरे को जनता का कम हितैषी साबित करने की कवायद भी चल रही है.

दरअसल, उत्तराखंड में आपदाओं को लेकर राजनीति, नई नहीं है. राज्य में 2013 में हुई केदारनाथ त्रासदी का दंश लोग अभी भूले नहीं हैं. प्रकृति की कठोर यातना के साथ भी सियासत के तार जुड़े हैं, क्योंकि केदारनाथ की त्रासदी के बाद ही तत्कालीन विजय बहुगुणा की सरकार ने सत्ता गंवा दी थी. ऐसे में जब बीते दिनों उत्तराखंड को एक और प्राकृतिक आपदा से दो-चार होना पड़ा और उसके बाद कांग्रेस व भाजपा के नेताओं के बीच सियासी प्रतिद्वंद्विता सामने आई, तो लोगों को बरबस ही बहुगुणा सरकार की याद आने लगी है.

आपदा के समय चमका रहे सियासत

Tags: Harish rawat, Pushkar Dhami, Uttarakhand Disaster, Uttarakhand elections

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर