• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • अल्मोड़ा के सरकारी स्कूल प्राइवेट स्कूलों को दे रहे टक्कर, 'रूपांतरण' कार्यक्रम से हुआ कायाकल्प

अल्मोड़ा के सरकारी स्कूल प्राइवेट स्कूलों को दे रहे टक्कर, 'रूपांतरण' कार्यक्रम से हुआ कायाकल्प

अल्मोड़ा

अल्मोड़ा के प्राथमिक विद्यालयों की सूरत बदल गई.

गेवापानी के प्राइमरी स्कूल में पहले छात्र संख्या 33 थी, जो अब बढ़कर 82 हो गई है.

  • Share this:

    अल्मोड़ा के दर्जनों प्राथमिक स्कूलों (Almora Primary Schools) की तस्वीर बदल चुकी है. पहले अभिभावक जिन सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाने में झिझकते थे, अब वे उन्हीं स्कूलों में बच्चों को दाखिला दिलवाने के लिए आगे आ रहे हैं. दर्जनों प्राथमिक विद्यालयों का रूपांतरण कार्यक्रम के तहत कायाकल्प किया गया है. 2018 में ताड़ीखेत की उप-शिक्षाधिकारी गीतिका जोशी ने एक पहल की शुरुआत की थी. उन्होंने पहले एक स्कूल में रूपांतरण कार्यक्रम के तहत बदलाव किए. इसके बाद उन्होंने कई और स्कूलों को चिन्हित किया.

    दिल्ली सरकार की तर्ज पर सरकारी स्कूलों में छात्रों की संख्या बढ़ाने और छात्रों को प्राइवेट स्कूल की तर्ज पर शिक्षा देने के लिए रूपांतरण कार्यक्रम चलाया गया. स्कूलों में स्मार्ट क्लास के अलावा प्राइवेट स्कूल की तरह सभी सुविधाएं छात्रों को दी गईं. अब नतीजा यह है कि जिन स्कूलों में छात्र संख्या पहले बेहद कम थी, उन स्कूलों में अब संख्या 50 फीसदी से अधिक बढ़ गई है.

    जिला मुख्यालय के दुगालखोला स्थित राजकीय प्राथमिक स्कूल में पहले 34 बच्चे पढ़ रहे थे, अब यहां 55 बच्चे शिक्षा ले रहे हैं. इसी तरह गेवापानी के प्राइमरी स्कूल में पहले छात्र संख्या 33 थी, जो अब बढ़कर 82 हो गई है.

    जिला समन्वयक डॉक्टर विद्या कर्नाटक ने बताया कि जिले में अभी 144 स्कूलों को रूपांतरण योजना में शामिल कर किया गया है. इन स्कूलों में प्राइवेट स्कूल की तरह ही छात्रों को पढ़ाया जा रहा है. प्राथमिक विद्यालयों में 50 फीसदी से ज्यादा छात्रों की संख्या बढ़ी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज