राष्ट्र को आरएसएस जाति व धर्म के आधार पर बांटना चाहता है - प्रदीप टम्टा

प्रदीप टम्टा, कांग्रेस प्रत्याशी

आरएसएस का सिद्धांत बंटवारे का है और जोड़ने का सिद्धांत गांधी का है. दोनों विचारधाराओं के बीच संघर्ष है. अल्मोड़ा प्रत्याशी प्रदीप टम्टा ने स्वयं को गांधी की विचारधारा का सिपाही बताया.

  • Share this:
अल्मोड़ा में अजय टम्टा और प्रदीप टम्टा विधानसभा चुनावों से लेकर लोकसभा चुनाओं में अब तक 4 बार आमने-सामने होकर चुनाव लड़ चुके हैं. दोनों ही एक दूसरे को एक-एक बार विधानसभा और एक-एक बार लोकसभा चुनाव में हरा चुके हैं. इस बार पांचवा मौका है जब दोनों फिर आमने-सामने चुनावी किस्मत आजमा रहे हैं. सोमेश्वर विधानसभा सीट से पहली बार 2002 में प्रदीप टम्टा कांग्रेस से और अजय टम्टा निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े थे. फिर दोनों 2007 में विधानसभा और 2009 में संसदीय सीट आरक्षित होने पर चुनाव लड़े. फिर 2014 में लोकसभा चुनाव लड़ने के बाद इस बार फिर 2019 के लोकसभा चुनाव में दोनों टम्टा एक दूसरे के आमने-सामने हैं.

बीजेपी में अपनी तरक्की पर प्रकाश डालते हुए भाजपा प्रत्याशी अजय टम्टा ने कहा कि एक कार्यकर्ता के नाते उन्होंने बूथ स्तर से काम शुरू किया और वे राष्ट्रीय कार्यकारिणी का सदस्य तक रहे. उन्होंने कहा कि वे पार्टी के विभिन्न संगठनों में भी काम कर चुके हैं. उन्हें पार्टी ने जिला पंचायत सदस्य बनाने के साथ केंद्र में मंत्री भी बनाया. उन्होंने कहा कि जब पार्टी उन्हें कोई काम सौंपती है तब वे उसे पूरी निष्ठा के साथ करते हैं.

दूसरी तरफ कांग्रेस प्रत्याशी प्रदीप टम्टा ने कहा कि आरएसएस का विजन है कि राष्ट्र जाति और धर्मों के आधार बंटे. यानि आरएसएस का सिद्धांत बंटवारे का है और जोड़ने का सिद्धांत गांधी का है. यह दोनों विचारधाराओं के बीच संघर्ष है. उन्होंने स्वयं को गांधी की विचारधारा का सिपाही बताया.

दिलचस्प बात ये है कि कांग्रेस प्रत्याशी प्रदीप टम्टा राज्यसभा सांसद हैं और उनका दो साल से अधिक का कार्यकाल हो चुका है. लेकिन प्रदीप टम्टा जनता की सेवा करना अपना मकसद बताकर चुनाव लड़ने की बात कर रहे हैं. पहली बार विधानसभा चुनाव में प्रदीप को सफलता मिली तो दूसरी बार अजय टम्टा ने बाजी मारी. यही किस्सा लोकसभा चुनाव में दोहराया गया. इस बार जनता अपना जनादेश किस टम्टा को देती है, यह तो 23 मई को ही पता चल पाएगा. लेकिन इतना तय माना जा रहा है कि दोनों के बीच मुकाबला दिलचस्प होगा.

ये भी पढ़ें - राजपरिवार के प्रत्याशी को जिताकर बहुगुणा पार्टी में बढ़ा पाएंगे अपनी हैसियत

ये भी देखें - VIDEO : भारी सुरक्षा के बीच रुद्रपुर स्ट्रांग रूम तक पहुंचाए गए 1402 इवीएम

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.