होम /न्यूज /उत्तराखंड /अल्मोड़ा: 4 करोड़ रुपये से बदलेगी ताम्रनगरी के स्टेडियम की तस्वीर, खिलाड़ियों को मिलेंगी बेहतर सुविधाएं

अल्मोड़ा: 4 करोड़ रुपये से बदलेगी ताम्रनगरी के स्टेडियम की तस्वीर, खिलाड़ियों को मिलेंगी बेहतर सुविधाएं

अल्मोड़ा स्टेडियम की जल्द ही तस्वीर बदलने वाली है क्योंकि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की घोषणा के बाद स्टेडियम की कायाक ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- रोहित भट्ट

अल्मोड़ा. उत्तराखंड के अल्मोड़ा में स्थित हेमवती नंदन बहुगुणा स्पोर्ट्स स्टेडियम से कई महान खिलाड़ी खेल चुके हैं. भारतीय महिला क्रिकेटर एकता बिष्ट और अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन इस मैदान में खेल चुके हैं. इसके अलावा कई और खिलाड़ी भी हैं, जो राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अल्मोड़ा का नाम रोशन कर चुके हैं. इस स्टेडियम में मूलभूत सुविधाएं न होने के चलते खिलाड़ियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता था, पर अब ऐसा नहीं होगा.

अल्मोड़ा स्टेडियम की जल्द ही तस्वीर बदलने वाली है क्योंकि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की घोषणा के बाद स्टेडियम की कायाकल्प करने के लिए चार करोड़ 29 लाख रुपये की स्वीकृति मिल चुकी है. धनराशि जारी कर दी गई है. स्टेडियम में निर्माण कार्य शुरू हो चुका है. ‘न्यूज 18 लोकल’ से बातचीत में जिला क्रीड़ा अधिकारी अरुण बंग्याल ने बताया कि मुख्यमंत्री की घोषणा पर 4 करोड़ 29 लाख रुपये की स्वीकृति मिल चुकी है. बारिश के दिनों में इस स्टेडियम में पानी भर जाने की वजह से खिलाड़ियों को काफी दिक्कत होती थी. जिसको देखते हुए सबसे पहले ड्रेनेज का कार्य कराया गया है, जो अब पूरा हो चुका है. जिससे अब ग्राउंड में पानी नहीं भरेगा.

हॉकी कोच लता शाह ने बताया कि मैदान में बच्चे कई प्रकार के खेलते…
इसके अलावा क्रिकेट प्रैक्टिस करते वक्त खिलाड़ियों की गेंद बाहर चली जाती थी, उनके लिए भी चैनलिंग फेंसिंग लग रही है. जल्द ही ग्राउंड लेवल का भी कार्य होगा और इसमें बाहर से हरी घास लाकर लगाई जाएगी, जिससे दौड़ आदि में खिलाड़ियों को काफी सुविधा होगी. क्रीड़ा विभाग के अधिकारी ने यह भी बताया कि स्टेडियम में अभी तक कोई भी सुरक्षा दीवार नहीं थी, उसका भी निर्माण कार्य शुरू होगा और यहां एक लाख लीटर क्षमता का पेयजल टैंक भी बनेगा.

स्टेडियम की हॉकी कोच लता शाह ने बताया कि मैदान में बच्चे कई प्रकार के खेल खेलते हैं. हॉकी खिलाड़ियों को काफी दिक्कत होती है. हॉकी की प्रैक्टिस के दौरान बच्चों को चोट लगती है, पर अबहॉकी के लिए अलग से शूटिंग रेंज बनाया जा रहा है, जिससे खिलाड़ियों को काफी सुविधा मिलेगी और वे बेहतर कर सकेंगे.

Tags: Almora News, Uttarakhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें