उत्तराखंड: भाजपा के चुनावी रथों का नहीं हुआ भुगतान, सारथियों ने पीएम मोदी से लगाई गुहार

उत्तराखंड में चुनाव समाप्त हो चुका है. भारी बहुमत से भाजपा सरकार बना चुकी है. इसके बावजूद चुनाव प्रचार में इस्तेमाल किए गए वाहनों के खर्च भुगतान को लेकर वाहन स्वामी भाजपा नेताओं के चक्कर काट रहे हैं. किराये पर वाहन देने वाले आब सीएम और पीएम से भुगतान कराने की गुहार लगा रहे हैं.

ETV UP/Uttarakhand
Updated: April 24, 2017, 5:10 PM IST
उत्तराखंड: भाजपा के चुनावी रथों का नहीं हुआ भुगतान, सारथियों ने पीएम मोदी से लगाई गुहार
उत्तराखंड में चुनाव समाप्त हो चुका है. भारी बहुमत से भाजपा सरकार बना चुकी है. इसके बावजूद चुनाव प्रचार में इस्तेमाल किए गए वाहनों के खर्च भुगतान को लेकर वाहन स्वामी भाजपा नेताओं के चक्कर काट रहे हैं. किराये पर वाहन देने वाले आब सीएम और पीएम से भुगतान कराने की गुहार लगा रहे हैं. उधर प्रदेश भाजपा का कहना है कि उन्होंने पहले ही इनका भुगतान कर दिया है.
ETV UP/Uttarakhand
Updated: April 24, 2017, 5:10 PM IST
उत्तराखंड में चुनाव समाप्त हो चुका है. भारी बहुमत से भाजपा सरकार बना चुकी है. इसके बावजूद चुनाव प्रचार में इस्तेमाल किए गए वाहनों के खर्च भुगतान को लेकर वाहन स्वामी भाजपा नेताओं के चक्कर काट रहे हैं. किराये पर वाहन देने वाले आब सीएम और पीएम से भुगतान कराने की गुहार लगा रहे हैं.

उत्तराखंड विधानसभा में भाजपा के चुनाव प्रचार में काफी गाड़ियां इस्तेमाल की गई. बताया गया है कि 21 गाडियों के किराये का भुगतान अभी होना बाकी है. करीब 8 लाख के भुगतान के लिए वाहन स्वामी भाजपा नेताओं के चक्कर काट रहे हैं.

उत्तराखण्ड में इस बार भाजपा प्रचण्ड बहुमत के साथ सत्ता में आई है. इसके पीछे मोदी मैजिक तो है ही साथ ही भाजपा के प्रचार मॉडल ने भी इस बार के चुनावों में धूम मचाए रखी. प्रचार में भाजपा के चुनाव रथों ने खूब धूल उड़ाई. हर तरफ भाजपा के प्रचार का डंका खूब बजा.

letterpm

अब जब उत्तराखंड में प्रचंड बहुमत से सरकार बन चुकी है तो भाजपा के चुनावी रथों के सारथी निराश हैं. वाहन स्वामी रवि चौहान और इनके साथियों की 22 गाडियों को भाजपा ने चुनाव रथ बनाकर इस्तेमाल किया.

अब इनका कहना है कि अभी तक इनके बकाये का भुगतान नही हो पाया है. लगभग 8 लाख रुपय अभी भी इनका पेमेंट रुका हुआ है. अपनी आप बीती इन लोगों ने प्रदेश के सीएम और प्रधानमंत्री तक पहुँचाई है और इन्हें उम्मीद है कि उनकी मदद जरुर होगी.

वहीं उत्तराखण्ड की जिस टूर एण्ड ट्रैवल्स कंपनी से दिल्ली की कंपनी का करार हुआ था उनका कहना है कि भाजपा ने तो भुगतान कर दिया है, लेकिन वह कंपनी उनका भुगतान नहीं कर रही है. इसलिए भुगतान कराने के लिए वे सीएम त्रिवेंद्र रावत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गुहार लगा रहे हैं
इस पूरे मामले में भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता विरेंद्र सिंह का कहना है कि अब सीएम से मिलने से कुछ नहीं होगा, क्योंकि भाजपा के साथ इन लोगों का कोई करार नही है. उन्हें अपने मामले को अपने आप सुलझाना होगा.

उधर कांग्रेस ने इस मुद्दे को हाथों हाथ लपक लिया है. कांग्रेस की प्रदेश प्रवक्ता गरीमा दौसानी का कहना है कि सरकार भाजपा की हैं और अगर भाजपा इन लोगों की मदद नहीं करती है तो ये उनकी गैरजिमेमदारी होगी.

(देहरादून से ईटीवी रिपोर्टर रोबिन सिंह की रिपोर्ट)
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...