एक साल तक किया शादी का इंतजार, फिर लॉकडाउन के बीच निकला समाधान

आखिरकार 15 महीने के इंतजार के बाद गीता और प्रकाश परिणय सूत्र में बंध गए.
आखिरकार 15 महीने के इंतजार के बाद गीता और प्रकाश परिणय सूत्र में बंध गए.

जनवरी 2019 में प्रकाश की शादी गीता से होने वाली थी. कुछ कारणों से टल गई. लॉकडाउन (Lockdown) के बीच इस साल 16 अप्रैल को डीएम की इजाजत से दोनों ने लिए सात फेरे.

  • Share this:
अल्‍मोड़ा. उत्‍तराखंड के अल्मोड़ा (Almora) के खत्याड़ी गांव में गीता की शादी हल्द्वानी के प्रकाश से तय हुई थी, पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत 16 अप्रैल को गीता और प्रकाश दांपत्‍य की डोर में बंधने वाले थे. दोनों के सपने सच होते, इससे पहले ही देश में लॉकडाउन (Lockdown) की अवधि को बढ़ा कर 3 मई कर दिया गया. मजबूरन परिवार ने एक बार फिर शादी टालने पर विचार करना शुरू कर दिया. गीता के परिजनों का दिल इस बात को लेकर बैठा जा रहा था कि बीते 15 महीने में उनक बेटी की शादी (Marriage) दूसरी बार टल रही थी.

जनवरी 2019 में टल चुकी थी दोनों की शादी

दरअसल, इससे पहले जनवरी 2019 में प्रकाश की शादी गीता से होने वाली थी. कुछ वजहों से दोनों की शादी बीते साल जनवरी में नहीं हो सकी. इसके बाद शादी की दूसरी तारीख 16 अप्रैल 2020 तय हुई. सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था. गीता और प्रकाश, दोनों ही अब 16 अप्रैल का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे. दोनों शादी के पहले से लेकर बाद तक की सभी तैयारियां कर चुके थे. लेकिन उनकी तकदीर में कुछ और ही लिखा था. देश में कोरोना वायरस के संक्रमण ने दस्‍तक दे दी और 23 मार्च को देश में लॉकडाउन घोषित कर दिया गया.



लॉकडाउन बढ़ने से हुए मायूस
गीता और प्रकाश को अभी भी इस बात का संतोष था कि उनकी शादी 16 अप्रैल को है और लॉकडाउन 14 अप्रैल को खत्‍म होने वाला था. लिहाजा दोनों शादी की तारीख का इंतजार कर रहे थे. इस बीच हर गुजरते दिन के साथ जब आसपास के लोग लॉकडाउन बढ़ने की बात करते, तो दोनों का दिल बैठ जाता. लेकिन  गीता और प्रकाश ने अब भी उम्मीद का दामन छोड़ा नहीं था. इसी बीच 14 अप्रैल का दिन आया और पीएम नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन की अवधि को 3 मई तक बढ़ाने का ऐलान कर दिया. इससे गीता और प्रकाश मायूस हो गए. दोनों के परिवार एक बार फिर शादी टालने की सोचने लगे थे.



दोस्‍त की सलाह पर बनी बात

इसी बीच, प्रकाश के एक दोस्‍त ने उसे सलाह दी कि क्‍यों न वह अल्‍मोड़ा जिलाधिकारी से अपनी गुहार लगाए. प्रकाश को उसके दोस्‍त ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान कई शादियां डीएम की इजाजत पर हुई हैं. फिर क्‍या था प्रकाश और गीता के परिवार ने डीएम नितिन भदौरिया के दफ्तर में गुहार लगा दी. डीएम नितिन भदौरिया ने दोनों पक्षों की बात सुनी और शादी की इजाजत दे दी. हालांकि शादी को लेकर यह शर्त भी लगा दी थी कि शादी में 10 से ज्‍यादा लोग शामिल नहीं होंगे और सोशल डिस्‍टेंसिंग का पूरा पालन किया जाएगा. फिर क्‍या था, आज दोनों परिवार के 10 लोग जमा हुए और दोनों परिणय सूत्र में बंध गए.

यह भी पढ़ें: 

प्रधानमंत्री जी, क्‍वारेंटाइन अवधि पूरी होने के बाद भी हमें नहीं भेजा रहा अपने घर
बॉर्डर पर आतंकी और तस्करों से लोहा लेते हुए देश में कोरोना की लड़ाई में साथी बना BSF

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज