ढाई साल पलायन के कारण ही ढूंढ़ता रह गया आयोग : पूर्व सीएम हरीश रावत

पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि पहाड़ के पलायन को लेकर पूर्व सरकार ने कई योजनाएं चलाई थी जिसे वर्तमान सरकार ने ठंडे बस्ते में डाल दी है.

Kishan Joshi | News18 Uttarakhand
Updated: July 3, 2019, 2:23 PM IST
ढाई साल पलायन के कारण ही ढूंढ़ता रह गया आयोग : पूर्व सीएम हरीश रावत
हरीश रावत, पूर्व सीएम, उत्तराखंड
Kishan Joshi | News18 Uttarakhand
Updated: July 3, 2019, 2:23 PM IST
पूर्व सीएम हरीश रावत ने राज्य सरकार के पलायन आयोग पर सवाल उठाए हैं. रावत ने कहा कि पहाड़ के पलायन को लेकर पूर्व सरकार ने कई योजनाएं चलाई थी जिसे वर्तमान सरकार ने ठंडे बस्ते में डाल दी है. उन्होंने कहा कि पिछले ढाई साल में पलायन आयोग सिर्फ कारण ही ढूढ़ने में रह गया कि पलायन क्यों हो रहा है. उन्होंने जानना चाहा कि आखिरकार पलायन रोकने के लिए सरकार योजनाएं कब बनाएगी. हरीश रावत ने कहा कि पलायन आयोग को सारे कारणों का पता है. गांव-गांव के पलायन के अपने कारण हैं. उन्होंने कहा कि ऐसे सभी गांवों का माइक्रो प्लानिंग किया जाना आवश्यक है. उन्होंने कहा कि उसी प्लानिंग के आधार पर उनकी सरकार ने कई सारी योजनाएं शुरू की थी.

पिक एंड चूज मेथड से चल रही सरकार
पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि उनकी सरकार ने करीब साढ़े तीन हजार पहलें की. उन्होंने कहा कि एक पहल दूसरी का और दूसरी पहल तीसरी की पूरक है. कुछ पहलें मिलकर के एक गांव का या एक इलाके का समाधान कर सकती हैं. उन्होंने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाते हुए का कि यह सरकार पिक एंड चूज मेथड से चल रही है.

उन्होंने कहा कि यह सरकार हमारी सरकार द्वारा शुरू की गई कुछ योजनाओं पर तो काम कर रही है मगर कुछ योजनाओं को छोड़ दिया है. इस सरकार का पलायन आयोग के नाम पर ढाई साल बीत चुका है. उन्होंने जानना चाहा कि यह सरकार योजनाओँ क्रियान्वित कब करेगी.

ये भी देखें - बरसात शुरु होते ही दून के 40000 घरों पर मंडराने लगा ख़तरा

ये भी पढ़ें - कांवड़ मेला 17 जुलाई से, गांवों तक बताए जाएंगे Do's & Dont's

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अल्मोड़ा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 3, 2019, 2:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...