लाइव टीवी

हल्द्वानी: पहाड़ की बारिश के बाद मैदानी इलाके जलमग्न
Bageshwar News in Hindi

Bhupendra Gupta | ETV UP/Uttarakhand
Updated: July 18, 2016, 3:04 PM IST
हल्द्वानी: पहाड़ की बारिश के बाद मैदानी इलाके जलमग्न
हल्द्वानी में बारिश के बाद जलभराव Photo: ETV

मैदानी और पहाडी इलाको में हो रही बारिश ने हल्द्वानी शहर की ड्रेनेज व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी है. तीन दिनों में रूक रूक कर हुयी बारिश से न केवल गलियों और सडको में पानी भर गया बल्कि नेशनल हाईवे तक डूबने की कगार पर है. अभी तक घरों और दुकानों में बारिश का पानी घुसा हुआ है. साथ ही जान माल का खतरा बना हुआ है. मौसम विभाग द्वारा भारी मानसून की सूचना के बाद भी अधिकारियों का सचेत न होना यहां प्रशासन की लापरवाही को उजागर करता है.

  • Share this:
मैदानी और पहाडी इलाको में हो रही बारिश ने हल्द्वानी शहर की ड्रेनेज व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी है. तीन दिनों में रूक रूक कर हुयी बारिश से न केवल गलियों और सडको में पानी भर गया बल्कि नेशनल हाईवे तक डूबने की कगार पर है. अभी तक घरों और दुकानों में बारिश का पानी घुसा हुआ है. साथ ही जान माल का खतरा बना हुआ है.

मौसम विभाग द्वारा भारी मानसून की सूचना के बाद भी अधिकारियों का सचेत न होना यहां प्रशासन की लापरवाही को उजागर करता है. बारिश शुरू होने पहले शहर के नालों और नालियों की समुचित साफ सफाई तक नहीं करवाई जाती है. नेशनल हाईवे के चौडीकरण की डिजाइनिंग और ड्रेनेज की सिमेट्री में भारी गड़बड़ी बताई जाती है, इस वजह से भी यहां जलभराव ज्यादा होता है.
इन समस्याओ के चलते हल्द्वानी काठगोदाम में मकानों और दुकानों बारिश का पानी घुसा और लोगों के कीमती सामान का नुकसान हुआ है.

काठगोदाम निवासी रमा उनियाल और नीलम का मानना है कि गलियां ऊंची नीची हैं और गलियों से लगी सड़के लगातार ऊंची होती जा रही है. जिसके चलते ढाल के मकानों में पानी घुस रहा है. हल्द्वानी शहर निवासी गोपाल सांवत का कहना है कि इलाके के तमाम नालें कूडे से पटे पड़े हैं, जिसके चलते पानी की निकासी नही हो पा रही है.



वहीं जिला प्रशासन और लोक निर्माण विभाग भी मान रहा है कि नालों की सफाई समय पर न होने पाने के कारण जल भराव की स्थिति पैदा हुयी है. सिटी मजिस्ट्रेट हरवीर सिंह और लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता रंजीत रावत का कहना है कि इस मौसम में एकाएक जरूरत से ज्यादा बारिश हो गयी, जिसके चलते यह दिक्कत पैदा हुयी है. लिहाजा अब मोबाइल टीम के सहारों व्यवस्था बनाने का काम किया जा रहा है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बागेश्‍वर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 18, 2016, 3:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर