लाइव टीवी

बाहरी व्यक्ति को ऑबजर्वर बनाना सदन की गरिमा के खिलाफ : विजय चौधरी

Faheem Tanha | ETV UP/Uttarakhand
Updated: October 20, 2016, 6:20 PM IST
बाहरी व्यक्ति को ऑबजर्वर बनाना सदन की गरिमा के खिलाफ : विजय चौधरी
बिहार विधानसभा स्पीकर विजय चौधरी ने की उत्तराखंड के स्पीकर कुंजवाल से मुलाकात

राज्य में इसी वर्ष 18 मार्च को विधानसभा के बजट सत्र से उठा सियासी घमासान तो सबको याद होगा. लेकिन ये बहुत कम लोग जानते होंगे कि उत्तराखंड विधानसभा के इस सियासी घमासान को लेकर विधानसभा की मर्यादा का सवाल उठाने वाले बिहार के स्पीकर विजय चौधरी थे. जिन्होंने सदन के अंदर सुप्रीम कोर्ट द्वारा फ्लोर टेस्ट के लिए बाहरी अधिकारी को ओबजर्वर बनाकर भेजने की प्रक्रिया को ना सिर्फ सदन की मर्यादा के खिलाफ बताया बल्कि देशभर की राज्य विधानसभाओं को इस मामले में एकजुट करने की भी कोशिश की.

  • Share this:
राज्य में इसी वर्ष 18 मार्च को विधानसभा के बजट सत्र से उठा सियासी घमासान तो सबको याद होगा. लेकिन ये बहुत कम लोग जानते होंगे कि उत्तराखंड विधानसभा के इस सियासी घमासान को लेकर विधानसभा की मर्यादा का सवाल उठाने वाले बिहार के स्पीकर विजय चौधरी थे. जिन्होंने सदन के अंदर सुप्रीम कोर्ट द्वारा फ्लोर टेस्ट के लिए बाहरी अधिकारी को ओबजर्वर बनाकर भेजने की प्रक्रिया को ना सिर्फ सदन की मर्यादा के खिलाफ बताया बल्कि देशभर की राज्य विधानसभाओं को इस मामले में एकजुट करने की भी कोशिश की. बिहार के स्पीकर विजय चौधरी दो दिन के दौरे पर देहरादून पहुंचे तो अपने मन की बात उन्होने कही.

दिसंबर 2015 में बिहार विधानसभा के निर्विरोध स्पीकर बने विजय चौधरी यूं तो जेडीयू के सदस्य हैं. बिहार विधानसभा के स्पीकर के रूप में उन्होने उत्तराखंड विधानसभा के मामले में सवाल खड़ा करते हुए लोकसभा स्पीकर तक को पत्र लिखा डाला था.

20 अक्टूबर को देहरादून विधानसभा में उत्तराखंड के स्पीकर गोविंद सिंह कुंजवाल से मिलने पहुंचे बिहार विधानसभा के स्पीकर विजय चौधरी ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि उत्तराखंड में सरकार को लेकर जो कुछ भी हुआ, कौन जीता कौन हारा. इस बात से उन्हे कोई लेना देना नहीं लेकिन विधानसभा की गरिमा और मर्यादा को लेकर जो कुछ हुआ इसपर उनकी आपत्ति है.

बिहार के स्पीकर ने खुलकर कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर ही हांलाकिं बाहरी अधिकारी को ऑबजर्वर बनाया गया लेकिन ये सदन की मर्यादा के अनुरुप नहीं था. इसको लेकर उन्होने लोकसभा स्पीकर को भी पत्र लिखा है साथ ही कहा कि फ्लोर टेस्ट का नतीजा दिल्ली से घोषित होना भी सही नहीं कहा जा सकता है.

इसके अलावा विजय चौधरी इसबात पर सवाल भी खड़ा कर रहे हैं कि जब राष्ट्रपति भवन के मानकों में विधानसभा अध्यक्षों की चीफ जस्टिस, और राज्यपाल के समान ही ए-श्रेणी का प्रोटोकॉल और पोजिशन दी गई है तो फिर पासपोर्ट बनाने के मानकों में बी-श्रेणी क्यों दी जाती है.

इसको लेकर भी बिहार स्पीकर ने देशभर के विधानसभा अध्यक्षों के सामने मुद्दे को पत्र भेजकर उठाया है और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से इस मामले में मुलाकात के लिए समय भी मांगा है.
बिहार में सरकार की स्थिति को लेकर स्पीकर विजय चौधरी ने कुछ भी टिप्पणी करने से साफ इंकार कर दिया है. कहा कि वे एक संवैधानिक पद पर काम कर रहे हैं. सरकार ठीक चल रही है. लेकिन आगे ठीक चलेगी या ठीक नहीं चलेगी इसको लेकर वे कुछ भी टिप्पणी नहीं कर सकते हैं. साथ ही कहा कि उन्होने उत्तराखंड विधानसभा के मामले में भी सिर्फ सदन की मर्यादा का प्रश्न उठाया था नाकि किसी की जीत और हार का.
Loading...

उत्तराखंड के स्पीकर गोविंद सिंह कुंजवाल से मिलने देहरादून विधानसभा पहुंचे बिहार के स्पीकर विजय चौधरी ने उत्तराखंड की सरकार को लेकर पिछले दिनों हुए सारे घटनाक्रम पर संक्षिप्त चर्चा की. उत्तराखंड के स्पीकर गोविंद सिंह कुंजवाल ने बिहार के स्पीकर को उत्तराखंड विधानसभा कार्य संचालन नियमावली की एक पुस्तक भेंट की साथ ही एक स्मृति चिन्ह और शॉल पहनाकर अभिनंदन भी किया.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बागेश्‍वर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 20, 2016, 6:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...