लिंगानुपात में बागेश्वर नंबर वन, यहां हजार लड़कों पर हैं 1035 लड़कियां

साल 2017-18 में आशा द्वारा किए सर्वे में बागेश्वर जिले में एक हजार लड़कों पर 1035 लड़कियां है.

News18 Uttarakhand
Updated: April 1, 2018, 4:45 PM IST
लिंगानुपात में बागेश्वर नंबर वन, यहां हजार लड़कों पर हैं 1035 लड़कियां
फाइल फोटो.
News18 Uttarakhand
Updated: April 1, 2018, 4:45 PM IST
उत्तराखंड के बागेश्वर जिले लिंगानुपात में पूरे देश को एक बड़ा संदेश दिया है. साल 2017-18 में आशा द्वारा किए सर्वे में बागेश्वर जिले में एक हजार लड़कों पर 1035 लड़कियां है. लिंगानुपात में बागेश्वर जिला पूरे प्रदेश में अव्वल है. आशा ने यह सर्वे 6 साल तक के बच्चों के बीच किया है. यह अन्य पूर्व के सर्वे से कहीं ज्यादा है.

बागेश्वर जनपद के पूर्व के सालों की बात करें, तो भारत सरकार द्वारा किये गए सर्वे के आधार पर साल 2012 -13 में लिंगानुपात 879, साल 2013 -14 में लिंगानुपात 891,  2014 -15 में लिंगानुपात 933, 2015 -16 में लिंगानुपात 897 और 2016 -17 में 917 बाल लिंगानुपात रहा है.

बागेश्वर जिले के सीएमओ डॉ. शैलेजा भट्ट ने बताया कि वर्तमान में आशाओं द्वारा किये गए सर्वे के बाद बागेश्वर का लिंगानुपात 1035 रिकॉर्ड किया गया है. डॉ. शैलेजा ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना से लोगों में काफी जागरुकता फैली है.

उन्होंने बताया कि समाज के हर क्षेत्र में लड़कियों से खुद को साबित किया है जिससे लोगों में मोटिवेसन है. उन्होंने बताया कि ये सौभाग्य की बात है कि जिले में एक भी प्राइवेट अल्ट्रासाउंड मशीनें नहीं है. जिससे लिंगानुपात में ये स्थिति देखने को मिल रही है.

(बागेश्वर से हिंमाशु सगटा की रिपोर्ट)

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर