लाइव टीवी

हरीश रावत और किशोर उपाध्याय के बीच तकरार का फायदा उठाना चाहती बीजेपी

Mayank Rai | ETV UP/Uttarakhand
Updated: November 1, 2016, 9:36 PM IST
हरीश रावत और किशोर उपाध्याय के बीच तकरार का फायदा उठाना चाहती बीजेपी
File Photo

बीते दिनों भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा था कि, सीएम काम कम और नौटंकी ज्यादा करते हैं. मौका मिला तो भला सीएम रावत भी चुप क्यों रहते. उन्होंने कहा कि पता नहीं वो पार्टी में रहेंगे भी या नहीं.

  • Share this:
क्या कांग्रेस अध्यक्ष का अपने ही पार्टी पर लगातार हमलावर होना, भाजपा को बड़ा मुद्दा लगने लगा है? अगर नहीं, तो भाजपा को अचानक किशोर उपाध्याय का ख्याल क्यों आने लगा है? विपक्षी दल को लगता है कि कांग्रेस में किशोर के लिए जगह नहीं है और उन्हें भी भाजपा खुद में मिलाने के लिए तैयार है.

दरअसल, ये सारी जुबानीजंग एक बयान को लेकर शुरू हुई है. जिसे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने दिया था.

बीते दिनों भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा था कि, सीएम काम कम और नौटंकी ज्यादा करते हैं. मौका मिला तो भला सीएम रावत भी चुप क्यों रहते. उन्होंने कहा कि पता नहीं वो पार्टी में रहेंगे भी या नहीं.

अपने बयानों और चिट्ठी से सरकार की एक नहीं कई बार किरकिरी करा चुके हैं. पीसीसी चीफ किशोर उपाध्याय आजकल भाजपा की नजरों में बेचारे बनते जा रहे हैं.

भाजपा को लगता है कि कांग्रेस सरकार उन्हें दरकिनार करने में लगी है और वो भाजपा में आना चाहते हैं. खैर चुनाव करीब है. प्रदेश के दोनों ही प्रमुख राजनीतिक दल एक दूसरे पर जमकर हमले कर रहे हैं. हर कोई एक दूसरे की कमजोरी का फायदा उठाना चाहता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बागेश्‍वर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2016, 9:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...