होम /न्यूज /उत्तराखंड /

अब काबू में होगी जंगल की आग, उत्तराखंड में शुरू हुआ पहला मॉडल क्रू स्टेशन, जानें कैसे मिलेगी राहत

अब काबू में होगी जंगल की आग, उत्तराखंड में शुरू हुआ पहला मॉडल क्रू स्टेशन, जानें कैसे मिलेगी राहत

जंगल में लगी आग बुझाने उत्तराखंड में शुरू हुआ पहला मॉडल क्रू स्टेशन. File

जंगल में लगी आग बुझाने उत्तराखंड में शुरू हुआ पहला मॉडल क्रू स्टेशन. File

Uttarakhand forest fire: उत्तराखंड के जंगल आग से धधक रहे हैं. बागेश्वर में भी जंगल में आग से नुकसान हुआ है. ऐसे में अब जंगल में लगने वाली आग पर नियंत्रण पाने के लिए वन विभाग ने पहल कर मॉडल क्रू स्टेशन शुरू किया है. इसका शुभारंभ बुधवार को कैबिनेट मंत्री चंदन राम दास ने किया. इस मॉडल क्रू स्टेशन में आग से निपटने के लिए वन विभाग के कर्मचारी आधुनिक उपकरणों के साथ 24 घंटे तैयार रहेंगे.

अधिक पढ़ें ...

सुष्मित थापा
बागेश्वर. उत्तराखंड में फायर सीजन के दौरान वनों में लगने वाली आग पर नियंत्रण पाने के लिए वन विभाग ने पहल की है. इसके लिए कैबिनेट मंत्री चंदन राम दास ने बागेश्वर में पहले मॉडल क्रू स्टेशन का बुधवार को शुभांरम्भ किया. इस मॉडल क्रू स्टेशन में आग से निपटने के लिए वन विभाग के कर्मचारी आधुनिक उपकरणों के साथ 24 घंटे लैस रहेंगे. इनमें कर्मचारियों के लिए रहने-खाने की व्यवस्था, संचार कनेक्टिविटी, आपदा से निबटने को प्रभावी उपकरण, वाहन आदि की सुविधा उपलब्ध रहेगी.

इस मॉडल क्रू-स्टेशन में 15 कर्मचारियों की तैनाती रहेगी. बागेश्वर के जौलकांडे में करीब 19 लाख रुपये की लागत से बने मॉडल क्रू स्टेशन बनकर तैयार हो गया है. मॉडल क्रू स्टेशन को आधुनिक उपकरणों से लैस किया गया है. अब वनों में आग लगने की सूचना समय पर मिलने के साथ ही जंगलों में वनाग्नि का प्रभाव कम करने में साहयता मिलेगी.

44 जगहों पर मॉडल क्रू स्टेशन बनेंगे
पिछले वर्ष उत्तराखंड सरकार की ओर से प्रदेश भर में 44 स्थानों पर मॉडल क्रू स्टेशन बनाने का निर्णय लिया गया था. इसमें बागेश्वर को भी एक मॉडल क्रू स्टेशन मिला था. बागेश्वर के इस मॉडल क्रू स्टेशन में पर्याप्त स्टाफ तैनात कर दिया गया है. यह क्रू स्टेशन वर्षभर सक्रिय रहेगा.

आग की सूचना पर फौरन अलर्ट होगी टीम
वन क्षेत्र के साथ ही आसपास कहीं भी आपदा की स्थिति में क्रू-स्टेशन में तैनात कर्मचारी बचाव और राहत कार्य में जुट जाएंगे. इसके अलावा बागेश्वर में जंगलों की आग से निपटने के लिए परंपरागत 29 क्रू स्टेशन स्थापित किये गए हैं, जिनमें 100 कर्मचारियों की तैनाती की गई है. अब बस इंतजार है कि बागेश्वर के जंगल आग में धधकते न दिखें.

फ़िल्मी पोस्टरों से जंगल में आग ना लगाने की अपील
वन विभाग बागेश्वर ने लोगों को जागरूक करने के लिए फ़िल्मी डायलॉग की मदद ली जा रही है. इसमें शोले फ़िल्म के गब्बर और एक्ट्रेस विद्या बालन की फोटो पर डायलॉग लिखे हुए हैं. लोग इस पर कितना अमल करते हैं ये तो पता नहीं, लेकिन लोग उत्सुकता से पोस्टरों को जरूर देख रहे हैं.

Tags: Bageshwar News, Forest fire, Uttarakhand news

अगली ख़बर