होम /न्यूज /उत्तराखंड /उत्तराखंड: जोशीमठ में घर छोड़कर जा रहे कई लोग, कभी भी बड़े हादसे के खतरे को लेकर प्रशासन अलर्ट

उत्तराखंड: जोशीमठ में घर छोड़कर जा रहे कई लोग, कभी भी बड़े हादसे के खतरे को लेकर प्रशासन अलर्ट

जोशीमठ नगर क्षेत्र में लैंडस्लाइड का खतरा बढ़ा.

जोशीमठ नगर क्षेत्र में लैंडस्लाइड का खतरा बढ़ा.

Landslides in Uttarakhand : रुद्रप्रयाग में भूस्खलन के कारण हुए जानलेवा हादसे (Rudraprayag Landslide Accident) के बाद अ ...अधिक पढ़ें

नितिन सेमवाल
जोशीमठ. पहाड़ में इन दिनों कई लोग अपने घरों को छोड़कर किराये के मकानों में रहने जाने लगे हैं. यही नहीं, कुछ लोगों के लिए सुरक्षित ठिकानों की व्यवस्था करने की बात खुद प्रशासन कर रहा है. असल में, जोशीमठ नगर क्षेत्र में कई घरों पर खतरा मंडरा रहा है और आशंका है कि यहां कोई बड़ा हादसा हो सकता है. बीते साल 18, 19 अक्टूबर को हुई भारी बारिश से खासी मुश्किलें पैदा हो रही हैं. मूसलाधार बारिश से जोशीमठ नगर क्षेत्र के तमाम बड़े बड़े भवनों में दरारें पड़ गई हैं. हालात इतने खराब हो गए हैं कि लोगों का घरों में रहना मुश्किल हो गया है और कई लोग अपने घर छोड़कर किराये पर रहने चले गए हैं.

जोशीमठ नगर के गांधी नगर वार्ड की बात करें, तो यहां लगभग 60 से अधिक परिवारों पर भूस्खलन का खतरा मंडरा रहा है. भूस्खलन इतना ज्यादा खतरनाक हो गया है कि गांव के कुछ परिवारों ने अपनी छतों को भूस्खलन की चपेट में आने से रोकने के लिए बल्लियों का सहारा लिया है. घरों को बचाने के लिए बल्लियां लगाई गई हैं. कई मकानों की दीवारों पर बड़ी और मोटी दरारें साफ दिखाई दे रही हैं. गांधीनगर वार्ड निवासी बीना देवी, दिनेश लाल, राकेश लाल और सरोजनी देवी का कहना है कि भारी बारिश से उनके मकान की ज़मीन खिसक रही है, जिससे बड़े हादसे कभी भी हो सकते हैं.

लैंडस्लाइड से निपटने के लिए प्रशासन अलर्ट
इस मामले को गंभीरता से लेने का दावा करते हुए प्रशासन का कहना है कि वह भूस्खलन की स्थिति से निपटने के लिए तैयार है. यही नहीं, तहसील प्रशासन ऐसी किसी परिस्थिति के लिए अलर्ट मोड पर है. जोशीमठ नगर पालिका के प्रभारी अधिशासी अधिकारी प्रदीप सिंह नेगी ने कहा कि जोशीमठ नगर क्षेत्र के सभी वार्डों का भूगर्भीय सर्वेक्षण कराया गया है, जिसकी रिपोर्ट जिला प्रशासन को सौंप दी गई है.

" isDesktop="true" id="4047039" >

नेगी ने बताया कि जिन लोगों पर ज्यादा खतरा मंडरा रहा है, उन्हें सुरक्षित स्थान पर रखा जाएगा. नेगी के मुताबिक सेमा, मारवाड़ी, रविग्राम, गांधीनगर, सुनील, सिंहधार, मनोहर बाग , नृसिंह मंदिर वार्ड में भूगर्भीय सर्वेक्षण किया गया है.

Tags: Landslides, Uttarakhand landslide, Uttarakhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें