Home /News /uttarakhand /

Char Dham Yatra Ends Today : शाम 6:45 पर बद्रीनाथ के कपाट बंद होंगे, 20 क्विंटल फूलों से सजा मंदिर

Char Dham Yatra Ends Today : शाम 6:45 पर बद्रीनाथ के कपाट बंद होंगे, 20 क्विंटल फूलों से सजा मंदिर

20 क्विंटल फूलों से सजाया गया बद्रीनाथ धाम.

20 क्विंटल फूलों से सजाया गया बद्रीनाथ धाम.

Badrinath Yatra : उत्तराखंड में देवस्थानम बोर्ड (Devsthanam Board) एक्ट के विरोध के मुद्दे के बीच जारी रही चारों धामों की यात्रा आज शनिवार को संपन्न हो जाएगी जब केदारनाथ (Kedarnath), गंगोत्री और यमुनोत्री धामों के बाद बद्रीनाथ धाम के कपाट भी बंद हो जाएंगे. पिछले चार दिनों से चल रहा कपाट बंद होने का क्रम आज पूरा हो जाएगा तो शीतकाल (Winter Season) में कुबेर और उद्धव जी की पूजा पांडुकेश्वर में और आदि गुरु शंकराचार्य (Adi Shankaracharya) जी की गद्दी की पूजा नृसिंह मंदिर में की जाएगी. यात्रा के अंतिम दिन के लिए तैयारियां कितनी खास हैं और दिन भर का क्या कार्यक्रम (Badrinath Dham Event) रहने वाला है, जानिए.

अधिक पढ़ें ...

    नितिन सेमवाल
    जोशीमठ. तय कार्यक्रम के अनुसार 20 नवंबर को भगवान बद्री विशाल के कपाट शीतकाल के लिए बंद हो जाएंगे. इसी के साथ ही उत्तराखंड में स्थित चारों धामों की यात्रा संपन्न हो जाएगी क्योंकि केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट पहले ही 5 और 6 नवंबर को बंद हो चुके हैं. बद्रीनाथ धाम के कपाट बंद होने से तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. शनिवार का शाम 6 बजकर 45 मिनट पर कपाट बंद होंगे. इस मौके के लिए बद्री विशाल के मंदिर का शृंगार 20 क्विंटल फूलों से किया गया है और चार धाम यात्रा के अंतिम दिन दर्शन करने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु उमड़ रहे हैं.

    कबसे और कैसे शुरू होगा कपाट बंद होने का कार्यक्रम?
    चारों धामों में बद्रीनाथ ही इकलौता धाम है, जहां कपाट बंद होने का कार्यक्रम 4 दिन पहले से शुरू हो जाता है. आदिकेदारेश्वर के कपाट बीते मंगलवार को बंद होने के बाद से लगातार विधि विधान चल रहा है. शनिवार की शाम 4 बजे से कपाट बंद होने की प्रक्रिया शुरू होगी और शाम 6:45 बजे संपन्न हो जाएगी. बद्री विशाल से उद्धव, कुबेर पांडुकेश्वर के लिए रवाना होंगे. वहीं, शीतकाल के लक्ष्मी को गर्भगृह में विराजित कर दिया जाएगा. और शंकराचार्य की गद्दी जोशीमठ के लिए रवाना हो जाएगी.

    धाम में तैयारियां ज़ोरों पर, उत्साह भी
    बद्रीनाथ धाम मंदिर को 20 क्विंटल फूलों से सजाया गया है. कड़ाके की ठंड के बावजूद कपाट बंद होने के साक्षी बनने के लिए हज़ारों की संख्या में तीर्थयात्री बद्रीनाथ धाम पहुंच रहे हैं. शनिवार दोपहर तक हज़ारों यात्री बद्रीनाथ धाम पहुंच सकते हैं. चार धाम यात्रा के संपन्न होने के अंतिम दिन बद्रीनाथ में रोशनी और ढोल ताशे बजाने आदि की व्यवस्था भी की गई है. धूमधाम से पालकियां उठाने और जूलूस निकाले जाने की तैयारी है.

    लक्ष्मी जी को​ दिया गया न्यौता
    16 नवंबर से भगवान बद्री विशाल के कपाट बंद होने की प्रक्रिया शुरू हो गई थी. इसी क्रम में शुक्रवार को कपाट बंद होने की प्रक्रिया के चौथे दिन धाम के मुख्य पुजारी रावल ईश्वर प्रसाद नम्बूदरी, धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल, अपर धर्माधिकारी सत्य प्रकाश चमोला वेदपाठी ने माता लक्ष्मी को गर्भगृह में विराजमान होने के लिए निमंत्रण दिया. आज लक्ष्मी भगवान बद्री विशाल के कपाट बंद होने से पूर्व गर्भगृह में विराजमान की जाएंगी और पूरे शीतकाल के दौरान वह वहीं रहेंगी.

    Tags: Badrinath Dham, Badrinath News, Char Dham Yatra, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर