लाइव टीवी

भविष्य में नहीं कर पाएंगे वर्तमान मंदिर में बद्री विशाल के दर्शन!

News18 Uttarakhand
Updated: May 12, 2019, 11:12 PM IST
भविष्य में नहीं कर पाएंगे वर्तमान मंदिर में बद्री विशाल के दर्शन!
भगवान बद्री विशाल का मंदिर, चमोली

जिस दिन यह हाथ टूटकर नीचे गिर जाएगा उस दिन नर और नारायण पर्वत भी आपस में एक हो जाएंगे. ऐसे में बद्री विशाल मंदिर जाने का रास्ता बंद हो जाएगा.

  • Share this:
चार धाम की यात्रा शुरू हो चुकी है. 7 मई को यमुनोत्री और गंगोत्री जबकि 9 मई को केदारनाथ धाम के कपाट खोले गए. 10 मई को बद्री विशाल मंदिर के कपाट खोले जाने के बाद से चार धाम यात्रा पूरी तरह से शुरू हो गई है. बताने की जरूरत नहीं कि हर साल चार धाम यात्रा सीजन में देश - विदेश से लाखों श्रद्धालु यहां भगवान के दर्शन करने आते हैं. इन चारों धामों में श्रद्धालुओं की अपार आस्था है. लेकिन भविष्य में आपको बद्री विशाल के दर्शन वर्तमान मंदिर में नहीं हो पाएंगे.

दरअसल इस बात की जानकारी बद्री विशाल की कथाओं में दी गई है. जोशीमठ में भगवान नरसिंह की मूर्ति का एक हाथ पतला होता जा रहा है. ऐसा बताया जाता है कि जिस दिन यह हाथ टूटकर नीचे गिर जाएगा, उस दिन नर और नारायण पर्वत भी आपस में एक हो जाएंगे. ऐसे में बद्री विशाल मंदिर जाने का रास्ता बंद हो जाएगा.

सुभाई गांव तपोवन से करीब चार किमी आगे है. इस गांव के पास पहाड़ी पर एक मंदिर है. इस मंदिर को भविष्य बदरी के नाम से पहचाना जाता है. मंदिर में एक पत्थर रखा हुआ है जिस पर अस्पष्ट एक प्रतिबिंब उभरा हुआ है. कहा जा रहा है कि यही भविष्य बदरी हैं. बद्रीनाथ की महिमा से इनका विग्रह आकार ले रहा है.

भगवान बदरी के भी पंच केदार की तरह पंच बदरी में विग्रह हैं. इन पंच बदरी का संबंध अलग-अलग समय से है. इस वक्त जहां बदरीनाथ का पूजन किया जा रहा है, उसकी स्थापना आदि गुरु शंकराचार्य ने 8वीं सदी में की थी. भगवान बद्री विशाल के अलावा ध्यान बदरी, वृद्ध बदरी, योगध्यान बदरी तथा भविष्य बदरी का महत्व है.

ये भी देखें - PHOTOS : केदारनाथ में बाबा के दर्शन के लिए लागू टोकन व्यवस्था को सराह रहे श्रद्धालु

ये भी पढ़ें - चारधाम यात्रा: अमेरिका से आए अजय शाह ने बद्रीविशाल को चढ़ाए सोने के 3 मुकुट

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चमोली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 12, 2019, 10:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...