200 करोड़ की शादी में बस एक हफ़्ता... पंडाल लगने की जगह को लेकर विवाद

औली आजकल सहारनपुर मूल के गुप्ता बंधुओं के बेटों की कथित दो सौ करोड़ के शादी समारोह को लेकर चर्चा में है.

Prabhat Purohit | News18 Uttarakhand
Updated: June 11, 2019, 7:20 PM IST
200 करोड़ की शादी में बस एक हफ़्ता... पंडाल लगने की जगह को लेकर विवाद
oli, gupta marriage, औली में गुप्ता बंधुओं के दो बेटों की शादी होनी है जिस पर कथित रूप से 200 करोड़ रुपये का खर्च आएगा.
Prabhat Purohit
Prabhat Purohit | News18 Uttarakhand
Updated: June 11, 2019, 7:20 PM IST
चमोली के जोशीमठ स्थित पर्यटक स्थल औली अपने ख़ूबसूरत स्कीइंग स्लोप के लिए विश्वविख्यात है. मगर इन दिनों ये भारत से लेकर साउथ अफ्रीका तक चर्चाओं में रहने वाले सहारनपुर मूल के गुप्ता बंधुओं के बेटों की कथित दो सौ करोड़ के शादी समारोह को लेकर चर्चा में है. इस शादी का खुद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने स्वागत किया है और इसे उत्तराखंड के एक लग्ज़री वेडिंग डेस्टिनेशन के रूप में स्थापित होने की दिशा में एक बड़ा कदम माना है. लेकिन इधर विवाह समारोह की तैयारियां चल रही हैं उधर जिस जगह पर समारोह के लिए टेंट कॉलोनी तैयार की जा रही है उसके मालिकाना हक़ को लेकर विवाद हो गया है.

टेंट लगने शुरु



औली में होने वाली राज्य की अब तक की सबसे महंगी शादी को लेकर भले ही तारीख, समय तय हो गया है, निमंत्रण पत्र बंट गए हैं लेकिन फेरे कहां लिए जाएंगे अभी तक इसे लेकर अभी तक स्थिति साफ़ नहीं है. जिस स्थान पर शादी को लेकर आलीशान पंडाल लगाया जाना है वहां परमिशन मिले बिना ही अत्याधुनिक टेंट लगने शुरु हो गए हैं.

औली में गुप्ता ब्रदर्स के बेटों की शादियों में होगा धमाल, जानिए और क्या-क्या होगा

इस शादी की व्यवस्था का ज़िम्मा संभालने वाली एजेन्सी ने यहां आयोजन के लिए परमिशन मांगी थी जिस पर प्रशासन ने नगर पालिका के माध्यम से अनापत्ति प्रमाणपत्र दे दिया और औली में टेंट कॉलोनी तैयार भी होने लगी. लेकिन अब नगर पालिका उस ज़मीन को पर्यटन विभाग की बता रहा है.

पर्यटन से नहीं मिली एनओसी

चमोली की ज़िलाधिकारी स्वाति भदौरिया के अनुसार जिस जगह पर आयोजन किया जाना है वह नगर पालिका और पर्यटन विभाग दोनों की ज़मीन है. नगर पालिका ने एनओसी दे दी है, पर्यटन से भी तक नहीं मिली है.
Loading...

ज़िलाधिकारी ने कहा कि इवेंट आर्गेनाइज़र उसी जगह पर काम कर रहा है, जहां एनओसी मिली है. उन्होंने यह भी कहा कि ऐसी शिकायतों की मौका मुआयना करवाकर जांच कर ली जाएगी.

वेडिंग डेस्टिनेशन बना त्रियुगीनारायण मंदिर, यहां हुआ था शिव-पार्वती का विवाह!

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...