प्रदेश में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त

उत्तराखंड में बारिश का असर जन जीवन पर दिखने लगा है. आंधी के कारण कई जगहों पर पेड़ गिर गए हैं. इसका असर विद्युत आपूर्ति पर भी पड़ा है. नदी-नालों के उफान पर रहने की वजह से बरसात का पानी रिहायशी इलाकों में प्रवेश करने लगा है. सड़कों पर पानी का बहाव तेज होने से गाड़ियां धीमी चल रही हैं.

News18 Uttarakhand
Updated: July 13, 2019, 8:13 PM IST
प्रदेश में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त
चमोली - बद्रीनाथ मार्ग पर मलबा आने के चलते हाईवे कई स्थानों पर क्षतिग्रस्त हो गया है.
News18 Uttarakhand
Updated: July 13, 2019, 8:13 PM IST
उत्तराखंड में बारिश का दौर जारी है. बारिश का असर जन जीवन पर दिखने लगा है. आंधी के कारण कई जगहों पर पेड़ गिर गए हैं. इसका असर विद्युत आपूर्ति पर पड़ा है. नदी-नालों के उफान पर रहने की वजह से बरसात का पानी रिहायशी इलाकों में प्रवेश करने लगा है. सड़कों पर पानी का बहाव तेज होने से गाड़ियां धीमी चल रही हैं. कई जगहों पर जाम जैसी स्थिति बनी हुई है. लगातार हो रही बारिश का असर बाजार में देखने को मिल रहा है. बारिश के कारण तापमान में गिरावट आने से लोगों को पिछले दिनों पड़ी कड़ाके की गर्मी से राहत मिली है, लेकिन कई जगहों पर ठंड भी बढ़ गई है.

नैनीताल में मूसलाधार बारिश



नैनीताल में मूसलाधार बारिश से जनजीवन अस्त व्यवस्त हो गया है. यहां कल रात से ही रुक रुक कर बारिश हो रही है. आज दिन के बाद नैनीताल में हुई तेज बारिश से नाले उफान पर हैं तो शहर में कई स्थानों पर पेड़ गिरने की घटनाएं भी सामने आई हैं. नैनीताल में माल रोड पर पेड़ गिरने से यातायात प्रभावित हुआ है. जगाती होटल की छत पर भी पेड़ गिरा है. वहीं लांग व्यूह के पास घर में पेड़ गिरने से काफी नुकसान हुआ है.

नैनीताल में पेड़ों के बिजली की तारों पर गिरने से शहर की बिलजी व्यवस्था चौपट हो गई है.


तेज बारिश और हवा से नैनीताल में पेड़ों के गिरने से बिजली की तारें टूटने से शहर की बिलजी व्यवस्था भी चौपट हो गई है. इसके साथ ही नैनीताल जय लाल शाह बाजार में भी एक पुराने मकान का एक हिस्सा गिरने से खतरा बना हुआ है. मकान से गिर रहे पत्थरों व लकड़ी से आस पास के मकानों को भी खतरा पैदा हो गया है.

चारों तरफ बारिश से आई आफत के बाद नैनीताल में डर का माहौल है. स्थानीय लोग पुराने मकानों को सुरक्षित गिराने की मांग कर रहे हैं. लागातार हो रही बारिश का असर हल्द्वानी की सड़कों पर भी दिख रहा है. नहरों और नालों का पानी सड़कों पर सैलाब की तरह बह रहा है.

चमोली में रुक-रुककर हो रही बारिश
Loading...


जनपद चमोली में देर रात से रुक रुककर हो रही बारिश का सिलसिला लगातार जारी है. बारिश के चलते जहां आम जनजीवन प्रभावित हो गया है, वहीं बद्रीनाथ मार्ग पर मलबा आने के चलते हाईवे कई स्थानों पर क्षतिग्रस्त हो गया है. जिस तरह से लगातार क्षेत्र में बारिश हो रही है, उससे एनएच की टीम को मार्ग खोलने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. वहीं प्रशासन द्वारा भारी बारिश की चेतावनी के बाद आपदा प्रबन्धन से जुडे सभी विभागों को अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दिए गए हैं.

कोटद्वार में आंधी से पेड़ गिरे

कोटद्वार के भाभर क्षेत्र में आई आंधी से कई इलाकों में नुकसान पहुंचा है. किसनपुरी से ग्रोथ सेंटर के बीच सड़क किनारे लगे कई भारी भरकम पेड़ बिजली की तारों पर गिर गए. इससे कई घंटों तक इलाके की बिजली आपूर्ति ठप रही. साथ ही यातायात भी पूरी तरह प्रभावित रहा. वहीं मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड की टीम को लंबी मशक्कत के बाद पेड़ हटाने में कामयाबी मिली. इसके बाद ही यातायात सुचारू किया जा सका. बिजली विभाग की ओर से अभी भी मरम्मत का काम जारी है.

चंपावत के बाजार पर बारिश का असर

चंपावत जिले में पिछले 4 दिनों से हो रही बारिश का असर अब बाजार पर भी दिखने लगा है. बारिश के चलते लोगों ने बाजार की ओर रुख करना कम कर दिया है. इस बरसात में दिन भर
दुकान खोले रहने के बाद भी व्यपारियों की बिक्री नहीं हो रही है. उनके चेहरों पर मायूसी दिखाई दे रही है.
मसूरी में जनजीवन अस्त-व्यस्त

मसूरी में पिछले दो सप्ताह से रुक रुककर हो रही है बारिश.


मसूरी शहर में हो रही बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. शहर में पिछले दो सप्ताह से रुक रुककर हो रही बारिश से लोगों की परेशानी बढ़ गई है. शहर में आए सैलानी भी बारिश से
परेशान हैं. बारिश के चलते सैलानी घूम नहीं पा रहे हैं. यहां बारिश के साथ ही शहर में घना कोहरा भी छाया हुआ है. तापमान में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. बारिश के कारण लोगों के
रोजमर्रा के कामकाज प्रभावित हुए हैं.

अल्मोड़ा में नदी-नाले उफान पर

अल्मोड़ा में सुबह से ही बारिश हो रही है, जिससे नदी नाले उफान पर हैं. अल्मोड़ा नगर में कोसी नदी में सिल्ट आने से पेयजल संकट बना हुआ है. डीएम ने सभी अधिकारियों को अलर्ट रहने के निर्देश दिए हैं. अधिकारियों से कहा गया है कि वे किसी भी घटना की सूचना मिलते ही तत्काल मौके पर पहुंचे. इसके साथ ही सभी सड़कों के बंद होने की स्थिति में जेसीबी मशीनें तैनात कर दी गई हैं.

ये भी पढ़ें - पंचायत चुनाव में भी कांग्रेस की बल्ले-बल्ले रहेगी: हरीश रावत

ये भी पढ़ें - लक्ष्मण झूला पुल बंद किए जाने पर लोगों का विरोध प्रदर्शन
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...