Home /News /uttarakhand /

2023 में तैयार होना था रैणी हाइड्रो प्रोजेक्ट, अब होगी साल भर की देर, जानिए क्या है वजह

2023 में तैयार होना था रैणी हाइड्रो प्रोजेक्ट, अब होगी साल भर की देर, जानिए क्या है वजह

NTPC जल विद्युत परियोजना महाप्रबंधक राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि इस जल विद्युत परियोजना का आपदा के बाद 75 प्रतिशत काम पूरा.

NTPC जल विद्युत परियोजना महाप्रबंधक राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि इस जल विद्युत परियोजना का आपदा के बाद 75 प्रतिशत काम पूरा.

Chamoli News: चमोली के जोशीमठ में 520 मेगावाट जल विद्युत परियोजना को 7 फरवरी को रैणी क्षेत्र में आई प्राकृतिक आपदा में भारी नुकसान हुआ था. एनटीपीसी जल विद्युत परियोजना के 140 वर्कर मारे गए थे. काम रुक गया था. इसके बाद अब एक बार फिर यहां तेजी से काम शुरू किया गया है. 75 प्रतिशत काम पूरा हो गया है. अधिकारियों ने 2024 तक इसके पूरे होने के बाद उत्पादन शुरू होने का दावा किया है.

अधिक पढ़ें ...

    नितिन सेमवाल

    चमोली. 7 फरवरी को रैणी क्षेत्र में आई प्राकृतिक आपदा के बाद क्षेत्र में कार्य कर रही जल विद्युत परियोजना एनटीपीसी दोबारा कब बनेगी – यह सवाल सबके मन में था. अब एनटीपीसी जल विद्युत परियोजना ने प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान के बाद एक बार पुनः कार्य करके परियोजना को देश के नाम करने का दावा किया है.

    चमोली के जोशीमठ में कार्यरत 520 मेगावाट जल विद्युत परियोजना एनटीपीसी 2024 में राष्ट्र के नाम हो जाएगी. 2024 में जल विद्युत परियोजना बनकर तैयार हो जाएगी, जिससे भारत के कई राज्यों को विद्युत की आपूर्ति बहाल की जाएगी. 2006 से जल विद्युत परियोजना जोशीमठ में कार्य कर रही है. अब इस जल विद्युत परियोजना के पूर्ण होने का समय आ गया है.

    एनटीपीसी जल विद्युत परियोजना जब से बननी शुरु हुई तब से लगातार आपदा की मार झेलती आई है. एनटीपीसी जल विद्युत परियोजना महाप्रबंधक राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि इस जल विद्युत परियोजना को 2023 में बनकर तैयार होना था, लेकिन ऐन वक्त पर 7 फरवरी 2020 को रैणी के ऋषिगंगा में ग्लेशियर टूटने के बाद भारी तबाही मच गई. इससे एनटीपीसी जल विद्युत परियोजना के बेराज साइड और सुरंग के अंदर काफी नुकसान हुआ. इस त्रासदी में एनटीपीसी जल विद्युत परियोजना के 140 वर्कर मारे गए और परियोजना को आर्थिक तौर पर भी भारी नुकसान हुआ.

    महाप्रबंधक ने बताया कि केंद्र और राज्य सरकार के साथ-साथ एनटीपीसी जल विद्युत परियोजना के कर्मचारियों ने 7 फरवरी को आई प्राकृतिक आपदा के बाद एक बार फिर से युद्ध स्तर पर कार्य करके परियोजना को शुरू करने का संकल्प लिया. 7 फरवरी को आई प्राकृतिक आपदा के बाद लगभग 90 प्रतिशत मलवा साफ करके पुनः परियोजना को शुरू कर दिया गया है. परियोजना लगभग 75 प्रतिशत पूरी हो चुकी है और अब शेष 25 प्रतिशत कार्य पूरा होना है जिसको लेकर परियोजना के अधिकारी जुटे हुए हैं.

    2024 में जल विद्युत परियोजना एनटीपीसी का कार्य पूरा हो जाएगा. एनटीपीसी जल विद्युत परियोजना अधिकारियों के अनुसार इस परियोजना को 2023 में पूरा होना था, लेकिन अनेक प्राकृतिक आपदाओं ने परियोजना को काफी नुकसान पहुंचाया. कर्मचारी और उत्तराखंड सरकार के साथ-साथ केंद्र सरकार के सहयोग से यह परियोजना 2024 जून को देश को समर्पित कर दी जाएगी.

    Tags: Chamoli News, Hydropower generation, Uttarakhand big news, Uttarakhand NTPC Hydro Electric Project

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर