Home /News /uttarakhand /

pushkar dhami to break a myth related to badrinath dham after becoming cm again know how

बद्रीनाथ धाम से जुड़ा रहा उत्तराखंड की सत्ता का मिथक, पुष्कर धामी फिर CM बनकर तोड़ेंगे रिकॉर्ड, जानिए कैसे

2021 में बद्रीनाथ प्रवास के दौरान पुष्कर सिंह धामी.

2021 में बद्रीनाथ प्रवास के दौरान पुष्कर सिंह धामी.

Uttarakhand CM : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) जहां लगातार दूसरी बार मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं, वहीं पुष्कर धामी (Pushkar Singh Dhami) उत्तराखंड के. दोनों में ही एक बात समान है कि दोनों ही मुख्यमंत्री बनने के बाद बद्रीनाथ धाम (Baba Badri Vishal) के दर्शन के लिए पहुंचे थे. धामी ने तीर्थ पुरोहितों (Teerth Purohit) के साथ भेंट भी की थी. इसके बाद, चुनाव से कुछ ही पहले धामी ने विवादों में घिरे देवस्थानम बोर्ड एक्ट (Devsthanama Board Act) को खत्म करके साधु संतों के करीब दो साल के विरोध को शांत किया था. जानिए बद्रीनाथ मिथक और धामी की उपलब्धि.

अधिक पढ़ें ...

नितिन सेमवाल
जोशीमठ. उत्तराखंड की राजनीति में एक मिथक और टूट गया, जब कार्यवाहक सीएम पुष्कर सिंह धामी को दोबारा मुख्यमंत्री बनाए जाने की घोषणा भारतीय जनता पार्टी ने की. मिथक बद्रीनाथ धाम से जुड़ा है‌. उत्तराखंड के इतिहास के हवाले से कहा जाता है कि जो भी मुख्यमंत्री बद्रीनाथ धाम आता है, वह दोबारा मुख्यमंत्री नहीं बन पाता. लेकिन इस मिथक को तोड़ने में भाजपा के युवा चेहरे धामी को कामयाबी मिली है. वास्तव में, भाजपा ने इस बार विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करके कई मिथक तोड़े हैं और यह भी उल्लेखनीय है कि 2020 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी बद्रीनाथ धाम आए थे.

जो मिथक बद्रीनाथ धाम से जुड़े हुए हैं, उनमें मुख्यमंत्रियों को लेकर चला आ रहा एक ट्रेंड साफ तौर पर चर्चा में रहता है. उत्तराखंड के तमाम मुख्यमंत्री जो भी बद्रीनाथ धाम में हेलीकॉप्टर से पहुंचे, वो दोबारा सत्ता में नहीं लौटे. हरीश रावत हों या फिर पूर्व में कांग्रेस में रहे विजय बहुगुणा, दोनों के नाम इस मिथक से जुड़े. इधर, भाजपा के डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक, भगत सिंह कोश्यारी, बीसी खंडूरी, त्रिवेंद्र सिंह रावत वो मुख्यमंत्री हैं, जो भगवान बदरी विशाल के दर्शनों के लिए बद्रीनाथ धाम पहुंचे थे और फिर मुख्यमंत्री नहीं बन पाए.

धामी को मिला बद्री विशाल का आशीर्वाद
4 जुलाई 2021 को पुष्कर सिंह धामी मुख्यमंत्री बने, तो उसके बाद भगवान बद्री विशाल के दर्शनों के लिए बद्रीनाथ पहुंचे थे. धामी दो बार भगवान बद्री विशाल के दर्शन के लिए पहुंचे और विशेष पूजा-अर्चना भी की. उन्होंने साधु संतों का आशीर्वाद भी लिया था. बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के उपाध्यक्ष किशोर पवार कहते हैं, धामी ने तीर्थ पुरोहितों और हक हकूकधारियों के पक्ष में जो फैसले किए, उसका लाभ उन्हें तीर्थ पुरोहितों आशीर्वाद के तौर पर मिला.

गौरतलब है कि सोमवार को केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी ने देहरादून में विधायक दल के नेता के तौर पर धामी के नाम का ऐलान किया और बताया कि धामी 23 मार्च को परेड ग्राउंड पर शपथ ग्रहण करेंगे. इस समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह समेत भाजपा के कई दिग्गज नेता और भाजपा शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्री भी शामिल हो सकते हैं.

Tags: Badrinath Dham, Pushkar Singh Dhami, Uttarakhand CM

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर