• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • Uttarakhand Flood: केंद्रीय ऊर्जा मंत्री का ऐलान, NTPC परियोजना के मृतकों के परिजनों को मिलेंगे 20-20 लाख रुपये

Uttarakhand Flood: केंद्रीय ऊर्जा मंत्री का ऐलान, NTPC परियोजना के मृतकों के परिजनों को मिलेंगे 20-20 लाख रुपये

हिमालय के चमोली इलाके में ही चिपको आंदोलन (Chipko Movement) शुरू हुआ था जहां प्राकृतिक आपदाएं समय समय पर चेतावनी देती रहती हैं.  (फाइल फोटो)

हिमालय के चमोली इलाके में ही चिपको आंदोलन (Chipko Movement) शुरू हुआ था जहां प्राकृतिक आपदाएं समय समय पर चेतावनी देती रहती हैं. (फाइल फोटो)

केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह (RK Singh) ने कहा है कि उत्तराखंड में चमोली जिले में स्थित ऋषिगंगा ग्लेशियर के टूटने से आई विकराल बाढ़ में क्षतिग्रस्त एनटीपीसी की परियोजना (NTPC Project) में काम करने वाले मृतकों के आश्रितों को 20-20 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी.

  • Share this:

    देहरादून. केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह (RK Singh) ने सोमवार को कहा कि उत्तराखंड के चमोली जिले के रेंणी क्षेत्र में आई विकराल बाढ़ में क्षतिग्रस्त एनटीपीसी की परियोजना (NTPC Project) में काम करने वाले मृतकों के आश्रितों को 20-20 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी. आपदाग्रस्त क्षेत्रों का दौरा करने के बाद जौलीग्रांट हवाईअड्डे पर मीडिया से बातचीत करते हुए केंद्रीय मंत्री सिंह ने कहा कि इस आपदा में 13.2 मेगावाट ऋषिगंगा पनबिजली परियोजना पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गयी है. जबकि एनटीपीसी की 480 मेगावाट तपोवन-विष्णुगाड परियोजना को भी काफी क्षति पहुंची है.

    केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने कहा कि नुकसान के कारणों का पता लगाने के लिए इसरो की तस्वीरों के आधार पर एनटीपीसी, टीएचडीसी और एसजेवीएनएल के पदाधिकारियों की एक टीम मौके का निरीक्षण करेगी. इसके अलावा सिंह ने कहा कि पर्वतीय राज्यों में सतर्कता प्रणाली उपलब्ध कराई जाएगाी ताकि हिमस्खलन आदि घटनाओं की पूर्व में जानकारी मिल सके. साथ ही सिंह ने कहा कि इस वक्त हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती सुरंग में फंसे करीब 34 लोगों को बचाना है. अभी हम सुरंग के अंदर 70 मीटर तक गए हैं और करीब 180 मीटर तक और जाना है. किस तरह से हम सुरंग से मलवा निकाले इसके लिए पदाधिकारियों के साथ बातचीत की गई है.

    तपोवन-विष्णुगाड परियोजना को लगभग 1500 करोड़ रुपये का नुकसान
    केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मृतक आश्रितों को राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार आर्थिक सहायता उपलब्ध कराएगी. जबकि एनटीपीसी को भी मृतकों के परिजनों को 20-20 लाख रुपये देने को कहा गया है, ताकि उनके परिवार आपदा से उबर सकें. इससे पहले तपोवन में परियोजनाओं का निरीक्षण करने के बाद सिंह ने कहा कि आपदा से तपोवन-विष्णुगाड परियोजना को लगभग 1500 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. उन्होंने कहा कि पहले इस परियोजना के पूरे होने की समय सीमा वर्ष 2028 तय की गई थी, लेकिन अब यह कब होगा यह आकलन करने के बाद ही तय हो पायेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज