Assembly Banner 2021

Chamoli Tragedy: अब ली जाएगी नेवी डाइवर्स की मदद, हादसे के बाद बनी झील की गहराई का पता लगाएंगे

नेवी डाइवर्स हादसे के बाद बनी झील की गहराई का पता लगाएंगे. (File)(फोटो साभार-PTI)

नेवी डाइवर्स हादसे के बाद बनी झील की गहराई का पता लगाएंगे. (File)(फोटो साभार-PTI)

उत्तराखंड के चमोली (Chamoli) जिले में चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन में अब नेवी डाइवर्स ( Navy Divers) की मदद ली जाएगी. झील की गहराई का पता लगाने के साथ नीचे फंसे शवों को खोजने की भी कोशिश की जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 25, 2021, 6:16 PM IST
  • Share this:
चमोली. उत्तराखंड के चमोली (Chamoli) जिले में एकाएक आई बाढ़ ने भारी तबाही मचाई है. बचाव दलों के अलावा केन्द्रूीय एजेंसी जैसे डीआरडीओ, सेन्ट्रल वाटर कमीशन, सेना और अन्य एजेंसियां भी लगातार अपनी सेवाएं दे रही हैं. इसी कड़ी में अब भारतीय नौसेना के नेवी डाईवर्स अपनी सेवाएं देंगे. ये डाइवर्स इस हादसे की वजह से बनी झील की गहराई पता लगाएंगे. चमोली जिले में एक ओर ग्लेशियर टूटने की वजह से सैकड़ों लोगों की जान गई थी और दूसरी ओर पानी ज्यादा होने की वजह से एक झील बन गई थी. इस झील के बनने से पर्यावरण पर क्या असर पड़ेगा इसका आंकलन अलग-अलग एजेंसियां अपने स्तर पर कर रही हैं.

सैन्ट्रल वाटर कमीशन इस बात की जांच कर रहा है कि किन किन स्रोतों से पानी इस झील में जमा हुआ है. पर्यावरण मंत्रालय के विशेषग्यों की टीम ये अध्यन कर रही है कि इस झील में पानी कितना इकट्ठा हुआ है. एनडीआरएफ, एसडीआरएफ इसका आंकलन कर रहे हैं कि किस ओर इस झील का पानी छोड़ा जाए और अब भारतीय नौसेना के नेवी डाइवर्स इस झील की गहराई का पता लगाएंगे

क्या होते हैं नेवी डाइवर्स



भारतीय नौसेना में खास तरीके की ट्रेनिंग इन्हें दी जाती है. इनका काम होता है गहरे पानी में जाना और नौसेना के जहाजों की मरम्मत करना, समुद्र के नीचे संभावित प्राकृतिक आपदाओं को लेकर आगाह करना, जहाजों के वेस्ट को हटाना और जहाज पर तैनात नौसेनिकों को सपोर्ट सिस्टम मुहैया करवाना. दुनियाभर की नौसेनाओं में इनकी तैनाती का प्रचलन सौ साल से भी ज्यादा समय से हो रहा है. बीते कुछ सालों में बाढ़ से हुई प्राकृतिक आपदाओं में पानी के गहराई की सूक्ष्म जांच के लिए इनका उपयोग किया जा रहा है.
ये भी  पढ़ें: Dharamshala News: नए गैस सिलेंडर से रिसाव, जल गई पूरी फास्ट फूड वैन, जान बचाने भागे लोग

चमोली हादसे में कितने कारगर होंगे नेवी डाइवर्स

एनडीआरएफ के पूर्व डीआईजी जेपी यादव का कहना की हादसे के बाद भीड़ ने पानी स्थिर है और उसका बहाव कम है. लिहाजा इनकी तैनाती काफी ज्यादा कारगर होगी न केवल या गहराई का पता लगाएंगे, बल्कि अगर कोई शव नीचे की ओर फंसा हुआ है तो उसको भी इनकी मदद से निकाला जा सकता है. इन नेवी डाइवर्स के पास अत्याधुनिक उपकरण भी बचाव के है जिस वजह से बचाव की अन्य एजेंसियों को भी इनसे बेहतर जानकारी मिलेगी जिस वजह से यह अपने काम में और ज्यादा तेजी लाएंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज