Uttarakhand Disaster: फिर रुका बचाव कार्य, रास्ते में आई चट्टान, ड्रोन से ऋषिगंगा के जलस्तर की मॉनिटरिंग, देखें VIDEO

ड्रोन से निगरानी की जा रही है.

ड्रोन से निगरानी की जा रही है.

Uttarakhand Chamoli Flash Flood Rescue: आईटीबीपी (ITBP) का कहना है कि ड्रिलिंग के दौरान एक बड़ी चट्टान आने से रेस्क्यू ऑपरेशन को रोक दिया गया था. ऋषिगंगा नदी (Rishiganga River) के जल स्तर की निगरानी ड्रोन की मदद से की जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2021, 1:31 AM IST
  • Share this:
चमोली. उत्‍तराखंड (Uttarakhand) के चमोली (Chamoli) में ग्‍लेशियर टूटने के बाद आई आपदा से तवाही का मंजर है. बाढ़ के बाद तपोवन (Tapovan Tunnel)में फंसे मजदूरों को बचाने की कोशिश लगातार की जा रही है. अब रेस्क्यू ऑपरेशन में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा रहा है. एक बार फिर तपोवन टनल में राहत कार्य को रोक दिया गया है. रेस्क्यू में लगी आईटीबीपी (ITBP) का कहना है कि 7-8 मीटर की ड्रिल के बाद स्लश फ्लशिंग सुरंग की ओर ड्रिलिंग अभियान रोक दिया गया था. एक बड़ी चट्टान की वजह से कटरों को संचालित करने में परेशानी आ रही थी. बचाव दल अब मशीनों से पहले की तरह फिर से स्लश निकाल रहे हैं. आईटीबीपी ने ऋषिगंगा नदी के बढ़ते जल स्तर की निगरानी के लिए गुरुवार को ड्रोन कैमरे भी तैनात कर दिए हैं.

बता दें कि ऋषिगंगा नदी के जल स्तर बढ़ने के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन को कुछ समय के लिए रोक दिया गया था. एनडीआरएफ का कहना है कि जल स्तर बढ़ इसलिए टीमों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट कर दिया गया. ऑपरेशन को सीमित टीमों के साथ फिर से शुरू किया गया है. कुछ देर बार बचाव कार्य को फिर से शुरू कर दिया गया था.

 रेस्क्यू ऑपरेशन में आ रही परेशानी

चमोली त्रासदी घटना के पांच दिन हो गए हैं. टनल में फंसे लोगों तक पहुंचने में सफलता नहीं मिल पा रही है. डीजीपी अशोक कुमार का कहना है कि रेस्क्यू ऑपरेशन में अब दिक्कतें आने लगी हैं. एनटीपीसी के ही अधिकारियों को टनल के अंदर की स्थिति का पता है, इसलिये उनके साथ ही स्ट्रैटेजी के साथ ही अब रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है. सुबह 3 बजे से ड्रिल के जरिये जो खुदाई चल रही थी, वह फिलहाल ड्रिल मशीन के टूटने के वजह से रुक गई है. राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने भी चमोली के आपदाग्रस्त तपोवन इलाके का दौरा कर राहत और बचाव कार्यों का जायजा लिया. अधिकारियों और कार्मिकों से बात करके राहत और बचाव कार्यों की जानकारी ली.
Youtube Video


ये भी पढ़ें: Valentine's Day से पहले फिर खुलेगा राष्ट्रपति भवन का Mughal Garden, सिर्फ ऑनलाइन बुकिंग से एंट्री





राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र की रिपोर्ट के अनुसार दोपहर 12:30 बजे तक बचाव दल ने 204 लापता में से 35 शव बरामद किए हैं. 10 शवों की शिनाख्त की गई है. ऋषिगंगा के जलस्तर में बढ़ोतरी भी हो रही है. पुलिस अधीक्षक चमोली यशवंत सिंह चौहान ने नदी के आसपास के इलाकों में रहने वाले लोगों को अलर्ट किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज