अवैध खनन और अनियंत्रित वाहन हैं टनकपुर हादसे की वजह !

चंपावत के एसपी धीरेंद्र गुंज्याल कहते हैं कि खनन सामग्री ले जा रहे वाहन ओवरलोडिंग न करें अब इस पर सख़्ती से नज़र रखी जाएगी.

Kamlesh Bhatt | News18 Uttarakhand
Updated: May 18, 2018, 8:11 PM IST
अवैध खनन और अनियंत्रित वाहन हैं टनकपुर हादसे की वजह !
चश्मदीद और स्थानीय लोगों की मानें तो जिले में चल रहा अवैध खनन आए दिन हादसे की वजह बन रहा है.
Kamlesh Bhatt | News18 Uttarakhand
Updated: May 18, 2018, 8:11 PM IST
चंपावत के टनकपुर बिचई में आज सुबह हुए हादसे ने राज्य में अंधाधुध खनन और खनन वाहनों के अनियंत्रित दौड़ने की समस्या को फिर सतह पर ला दिया है. आज सुबह मुंह-अंधेरे एक तेज रफ़्तार डंपर  पूर्णागिरी जा रहे श्रद्धालुओं पर चढ़ गया था. इस हादसे में 11 लोगों की मौत हो गई है.

आज सुबह तड़के हुए हादसे में बाल-बाल बचे चश्मदीद और स्थानीय लोगों की मानें तो जिले में चल रहा अवैध खनन आए दिन हादसे की वजह बन रहा है. सुबह-सुबह हादसे के वक़्त खनन क्षेत्र  में डंपरों की पहुंचने की दौड़ तो कुछ यही कहानी बया कर रही है.

अमर सिंह बताते हैं कि दो डंपरों के ओवरटेक करने के चलते यह हादसा हुआ है. स्थानीय लोग बताते हैं कि क्षेत्र में दिन-रात अवैध खनन चल रहे अवैध खनन की वजह से ही ऐसे हादसे होते हैं.

चंपावत के एसपी धीरेंद्र गुंज्याल कहते हैं कि खनन क्षेत्र में स्पीड पर नियंत्रण रहे और खनन सामग्री ले जा रहे वाहन ओवरलोडिंग न करें अब इस पर सख़्ती से नज़र रखी जाएगी. लेकिन वह यह नहीं बताते कि लगातार हो रहे हादसों के लिए ज़िम्मेदार लोगों पर कार्रवाई कब होगी.

स्थानीय स्तर पर पुलिस और प्रशासन आंखें बन्द कर लेता है तभी खनन माफ़िया पनपते हैं और ऐसे सड़क हादसे होते हैं. इससे पहले हुए हादसों पर कोई कार्रवाई न होने वजह से ही अपराधियों के हौसले इतने बुलंद होते हैं कि वह श्रद्धालुओं पर डंपर ही चढ़ा दें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर