Home /News /uttarakhand /

उत्तराखंड में जातिवाद! दलित भोजनमाता के बनाए मिड डे मील पर सवर्ण बच्चों को ऐतराज़, विवाद ने पकड़ा तूल

उत्तराखंड में जातिवाद! दलित भोजनमाता के बनाए मिड डे मील पर सवर्ण बच्चों को ऐतराज़, विवाद ने पकड़ा तूल

चंपावत के स्कूल में मिड डे मील ​बहिष्कार का विवाद बढ़ा.

चंपावत के स्कूल में मिड डे मील ​बहिष्कार का विवाद बढ़ा.

उत्तराखंड यानी देवभूमि की सामाजिक समरसता को धक्का पहुंचाने वाली खबर ने सभी को चौंका दिया है. चंपावत के एक स्कूल (Champawat School) में सवर्ग वर्ग के बच्चों ने मिड डे मील खाने से इसलिए मना कर दिया क्योंकि भोजन पकाने का काम एक दलित महिला को मिला. इन छात्रों के अभिभावकों ने स्कूल पहुंचकर हंगामा भी खड़ा किया और स्कूल प्रबंधन (School Management) पर गलत नियुक्ति करने के आरोप भी लगाए. जिस राज्य में कुछ दिन पहले मुख्यमंत्री पुष्कर धामी (Pushkar Dhami) के दलित के घर जाकर भोजन करने की खबरें थीं, वहां इस तरह की खबर के क्या मायने हैं? ​विस्तार से जानिए.

अधिक पढ़ें ...

चंपावत. ज़िले के सूखीढांग इंटर कॉलेज में सवर्णों के बच्चों ने भोजन खाने से इनकार कर दिया क्योंकि भोजन बनाने का काम जिस भोजन माता को सौंपा गया, वह दलित वर्ग की है. यह विवाद इतना बढ़ चुका है कि ज़िला शिक्षा अधिकारी ने प्रधानाचार्य से मामले में रिपोर्ट मांगकर जांच बैठा दी है. बताया जाता है कि भोजनमाता की नियुक्ति को लेकर विवाद बढ़ गया है. एक तरफ प्रधानाचार्य इस नियुक्ति को नियमों के हिसाब से बता रहे हैं तो दूसरी तरफ अभिभावक संघ का आरोप है कि नियुक्ति एक सवर्ण भोजनमाता की होनी थी, लेकिन प्रस्ताव के खिलाफ दलित वर्ग की महिला को नियुक्त कर दिया गया.

इंटर कॉलेज में 60 छात्र-छात्राएं पढ़ाई कर रहे हैं. इनमें से सामान्य वर्ग के 40 और अनुसूचित जाति के 20 छात्र-छात्राएं हैं. शिक्षक अभिभावक संघ का कहना है चूंकि सामान्य वर्ग के छात्रों की संख्या ज़्यादा है इसलिए भोजनमाता को भी सामान्य वर्ग से ही नियुक्त किया जाना चाहिए. दलित वर्ग की भोजनमाता की नियुक्ति के बाद हुआ ये कि छात्रों ने एक दिन भोजन करने के बाद इंटर कॉलेज में खाना खाने से मना कर दिया. विवाद बढ़ने के बाद हरकत में आए शिक्षा विभाग ने जांच बिठा दी है. इस प्रकरण को सुलझाने के लिए 22 दिसम्बर को एक बैठक तय की गई है.

क्या है पूरा मामला और विवाद?
राजकीय इंटर कॉलेज सूखीढांग में पहले भोजन माता के रूप में शकुंतला देवी कार्यरत थीं, जिनकी उम्र के 60 वर्ष पूरे होने के बाद पीटीए और एसएमसी की बैठक में भोजनमाता के तौर पर पुष्पा भट्ट की नियुक्ति का निर्णय लिया गया था. अब आरोप है कि प्रधानाचार्य प्रेम आर्या ने बैठक में पारित प्रस्ताव के उलट सुनीता देवी पत्नी प्रेमराम को भोजनमाता के रूप में तैनात कर दिया. बीते शनिवार को मामला उस समय तूल पकड़ गया, जब सामान्य वर्ग के अभिभावकों ने स्कूल में हंगामा किया.

dalit controversy, savarn dalit controversy, mid day meal, mid day meal rules, uttarakhand schools, दलित अत्याचार, सवर्ण दलित विवाद, मिड डे मील नियम, उत्तराखंड के स्कूल, aaj ki taza khabar, UK news, UK news live today, UK news india, UK news today hindi, UK news english, Uttarakhand news, Uttarakhand Latest news, उत्तराखंड ताजा समाचार, चंपावत समाचार
मिड डे मील पर ​हुए विवाद को लेकर बुधवार को एक बैठक किए जाने सबंधी सूचना.

न्यूज़18 के पास पुष्पा भट्ट द्वारा शिक्षा ​अधिकारी को दिए गए आवेदन की प्रतिलिपि के साथ ही उस हस्ताक्षरित पत्र की प्रतिलिपि भी है, जिसमें भट्ट के चयन की बात पीटीए ने कही. इस मामले में प्रधानाचार्य का पक्ष यही है, ‘कुल 11 आवेदन भोजनमाता के पद के लिए मिले थे. सुनीता देवी का चयन शिक्षक अभिभावक संघ की एक ओपन मीटिंग में स्कूल प्रबंधन समिति के साथ मिलकर लिया गया था.

क्या कह रहे हैं विशेषज्ञ?
मुख्य शिक्षा अधिकारी आरसी पुरोहित का कहना है कि वो इस मामले को खुद देख रहे हैं. वहीं, खबरों में स्थानीय नगरपालिका के पूर्व चेयरमैन हर्षवर्धन रावत के हवाले से कहा गया कि एक दलित महिला के हाथ से बने खाने को लेकर विवाद होना दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है. रावत के मुताबिक, ‘हम आधुनिक समाज में रह रहे हैं और इस तरह के विवाद सामाजिक संगति और इससे जुड़े कानूनों का उल्लंघन करते हैं.’ एक अन्य टीचर ने भी इसे समाज के लिए गलत संदेश करार दिया.

Tags: Dalit, Mid Day Meal, Uttarakhand news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर