VIDEO: अब भी नाराज़ हूं, पूरी तरह माना नहीं हूं- कुंजवाल

पत्रकारों के सवाल के जबाव में कुजंवाल ने कहा जब तक ज़िलाध्यक्षों के पदों में जातीय समीकरण को नहीं साधा जाता और पार्टी में महिलाओं को नेतृत्व नहीं मिलता है, तब तक उनका विरोध जारी रहेगा.

News18 Uttarakhand
Updated: August 23, 2018, 8:23 PM IST
News18 Uttarakhand
Updated: August 23, 2018, 8:23 PM IST
उत्तराखंड कांग्रेस की गुटबाज़ी का मैदान अल्मोड़ा बना हुआ है. पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गोविंद कुंजवाल के दबाव में अल्मोड़ा ज़िलाध्यक्ष को बदल दिया गया तो हटाए गए ज़िलाध्यक्ष ने पार्टी छोड़ने की धमकी दे दी है. राज्य प्रभारी अनुग्रह नारायण सिंह ने कुंजवाल पर तंज कस दिया कि बुजुर्गों की बातों पर ध्यान नहीं देना चाहिए तो कुंजवाल फिर उखड़ गए. चंपावत में देवीधुरा बग्वाल मेला उद्धघाटन कार्यक्रम में शिरकत करने आए कुंजवाल ने कहा कि उनकी नाराज़गी अब भी कायम है. बग्वाल मेले का उद्घाटन करने के बाद कुंजवाल ने कहा कि उनकी तीन मांगें थीं लेकिन उनमें से एक पर ही कार्रवाई की गई है. उन्होंने माना कि अल्मोड़ा का ज़िलाध्यक्ष बदलकर उन्हें संतुष्ट करने की कोशिश की गई है लेकिन कहा कि अब भी दो मांगें नहीं मानी गई हैं और जब तक ये नहीं मानी जाती उनकी नाराज़गी जारी रहेगी. पत्रकारों के सवाल के जबाव में कुजंवाल ने कहा जब तक ज़िलाध्यक्षों के पदों में जातीय समीकरण को नहीं साधा जाता और पार्टी में महिलाओं को नेतृत्व नहीं मिलता है, तब तक उनका विरोध जारी रहेगा.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर