लाइव टीवी

स्वाला हादसे के एक महीने बाद चिन्हित किए गए दुर्घटना संभावित स्थल

Kamlesh Bhatt | ETV UP/Uttarakhand
Updated: March 7, 2018, 12:38 PM IST
स्वाला हादसे के एक महीने बाद चिन्हित किए गए दुर्घटना संभावित स्थल
स्वाला में हुए सड़क हादसे के एक महीने बाद क्षेत्र में दुर्घटना संभावित क्षेत्रों की पहचान की जा रही है.

  • Share this:
स्वाला में हुए सड़क हादसे के एक महीने बाद पुलिस प्रशासन अलर्ट हुआ है और क्षेत्र में दुर्घटना संभावित क्षेत्रों की पहचान की जा रही है. चंपावत के एसपी धीरेन्द्र गुंज्याल के निर्देश के बाद जिले के उन दुर्घटना संभावित क्षेत्रों को चिन्हित किया गया है जहां हादसों की सम्भावना रहती है.

इस साल की सबसे भीषण सड़क दुर्घटनाओं में से एक में बीती सात फ़रवरी को चंपावत ज़िला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर स्वाला में एक मैक्स गाड़ी खाई में गिर गई थी. इस दुर्घटना में 10 लोगों की मौत हो गई थी.

स्वाला में इसी स्थान पर 1952 में भी भीषण हादसा हुआ था जब सेना का एक वाहन यहीं से खाई में गिर गया था. उस हादसे में आठ जवान मारे गए थे.

एक महीने बाद पुलिस की यह सतर्कता इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इस समय पूर्णागिरी मंदिर में में 3 महीने का मेला लगा हुआ है जिसमें रोज़ हजारों भक्त मां पूर्णागिरी के दर्शन के लिए आ रहे हैं. श्रद्धालुओं की सुरक्षा के मद्देनजर मेला क्षेत्र में यातायात को लेकर भी पुलिस सतर्क है.

एसपी गुंज्याल ने न्यूज़ 18 को बताया कि स्वाला घटना के बाद  पुलिस, पीडब्लूडी, राष्ट्रीय राजमार्ग च विभाग ने दुर्घटना क्षेत्रों को चिन्हित किया है, जिसके बाद चिन्हित दुर्घटना संभावित क्षेत्रों में क्रेश बैरियर, कौसन टेप बैरियर लगाए गए हैं ताकि दोबारा किसी तरह का सड़क हादसा  न हो.

राष्ट्रीय राजमार्ग टनकपुर टू चम्पावत के बस्तिया, सूखीढांग, चल्थी, अमोडी, स्वाला, चम्पावत, लोहाघाट, बाराकोट मरोड़ाखान को प्रमुख दुर्घटना संभावित क्षेत्रों के रूप में चिन्हित किया गया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चम्‍पावत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 7, 2018, 12:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...