लाइव टीवी

टनकपुर-जौलजीबी मार्ग में पहाड़ के मलबे में दबा ठेकेदार, 6 घंटे बाद मिला शव

Kamlesh Bhatt | ETV UP/Uttarakhand
Updated: March 6, 2018, 8:24 PM IST

बीते तीन जनवरी को भी इसी अंग्रेज चट्टान के पास पहाड़ी से गिरे मलबे की चपटे में ठेकेदार के साले सहित एक मजदूर की मौत हो गई थी.

  • Share this:
टनकपुर और जौलजीबी को जोड़ने वाले ठुलीगाड़-जौलजीबी मार्ग सोमवार शाम एक बार फिर हादसा हो गया और काम करा रहे ठेकेदार परमानंद जोशी की पहाड़ी के मलबे में दबकर मौत हो गई. पुलिस प्रशासन और एसडीआरफ की टीम ने रात 11 बजे तक रेस्कयू अभियान चलाकर 6 घण्टे बाद मलबे के नीचे दबे ठेकेदार का शव बरामद किया.

अंग्रेज चट्टान के पास हुए हादसे में पहाड़ी तोड़ रही लैंड रोवर (पौकलेंड) मशीन मलबे में दब गई और ठेकेदार भी उसी में दफ़न हो गया. पुलिस और एसडीआरफ की टीम ने रेस्कयू अभियान चलाकर ठेकेदार के शव निकाला.

बीते तीन जनवरी को भी इसी अंग्रेज चट्टान के पास पहाड़ी से गिरे मलबे की चपटे में ठेकेदार  के साले सहित एक मजदूर की मौत हो गई थी. टनकपुर के सीओ राजन सिंह रौतेला ने अंग्रेज चट्टान के पास हुए हादसे में ठेकेदार की मौत साथ एक पौकलेंड के ऑपरेटर के घायल होने के बारे में बताया.

co tanakpur rautela
टनकपुर के सीओ राजन सिंह रौतेला के नेतृत्व बचाव अभियान चलाया गया.


बाद में शव का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौप दिया गया. भारत-नेपाल का सीमांकन करने वाली  शारदा के किनारे से बन रही ठुलीगाड़-जौलजीबी सड़क में संचार नेटवर्क न होने के वजह से पुलिस प्रशासन को रेस्कयू अभियान में दिक्कतों का सामना करना पड़ा और शव को निकालने में छह घंटे लग गए.

दो महीने में एक ही जगह पर दो हादसे होने से सड़क निर्माण करा रही आरजीबी कंपनी की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं. सवाल है कि उसी जगह दोबारा हादसा हुआ तो क्या कंपनी को पहले से ही ऐहतिहात नहीं बरतनी चाहिए थी?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चम्‍पावत से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 6, 2018, 1:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...