उत्तराखंड : चंपावत में भूस्खलन, दर्जनों फंसे रहे, उत्तरकाशी में पीड़ितों से मिले CM

चंपावत में आठ जगह भूस्खलन के बाद ट्रैफिक कई जगह फंस गया. (File Photo)

भारी बारिश के कहर के बाद उत्तरकाशी के कंकराडी गांव जाकर सीएम धामी ने पीड़ितों को मदद देने के साथ ही एक गांव के विस्थापन के आदेश दिए. वहीं, चंपावत में नेशनल हाईवे पर ट्रैफिक सुचारू नहीं हो सका.

  • Share this:
    चंपावत/उत्तरकाशी. उतराखंड के चंपावत ज़िले में भारी बारिश के चलते भूस्खलन की लगातार घटनाओं के बाद टनकपुर घाट नेशनल हाईवे पर जैसे मुसीबत का पहाड़ टूट पड़ा. हाईवे जगह जगह बंद हो जाने के चलते करीब 150 लोग रास्ते में फंस गए. वहीं, राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तरकाशी ज़िले का दौरा किया और उन परिवारों से मुलाकात की, जिनके परिजन बादल फटने के हादसे के शिकार हुए थे. इन परिवारों से मुलाकात करते हुए धामी ने कई तरह की मदद देने की बात कही. वहां, चंपावत में प्रशासन को खासी मशक्कत करना पड़ी.

    ज़िला आपदा प्रबंधन अधिकारी मनोज पांडेय ने बुधवार को करीब 150 लोगों के चंपावत में फंसे होने की जानकारी देते हुए कहा कि मलबा हाईवे पर गिर जाने के चलते विश्रामघाट के रास्ते में ट्रैफिक जाम रहा. मंगलवार से बुधवार के बीच इस हाईवे पर आठ जगहों पर भूस्खलन की घटनाएं हुईं, जिनमें करीब 150 लोग अटक गए. पांडेय का दावा है कि मंगलवार शाम तक सात जगहों पर मलबा हटा दिया गया था.

    ये भी पढ़ें : कोटद्वार में अवैध चेनेलाइजेशन ने अब ली टीनेजर की जान, नाराज ग्रामीणों ने किया पथराव



    देवीधुरा से हल्द्वानी के रास्ते निकाले गए लोग
    चंपावत के हाईवे पर जगह जगह फंसे हुए लोगों को देवीधुरा होते हुए हल्द्ववानी के रास्ते से डायवर्ट कर निकाला गया. हालांकि विश्रामघाट की तरफ रास्ता अवरुद्ध होने के चलते लोग फंसे रहे. पांडेय के हवाले से आखिरी अपडेट खबरों के मुताबिक करीब दो दर्जन लोग फंसे हुए थे. यह भी गौरतलब है कि चंपावत समेत उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में मौसम विभाग ने भारी बारिश के आसार भी जताए.

    ये भी पढ़ें : देवस्थानम एक्ट पर पूर्व CM त्रिवेंद्र सिंह रावत का बड़ा बयान, 'पब्लिक नहीं, ये चंद लोगों की डिमांड'

    सीएम ने कहा, विस्थापित करो गांव
    दूसरी तरफ, बुधवार को सीएम धामी उत्तरकाशी के मंडो गांव में बादल फटने के पीड़ित परिवारों से मिले और हर संभव सहयोग का आश्वासन दिया. कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी के साथ गांवों में पहुंचे सीएम ने ज़िले के कलेक्टर को मंडो गांव को विस्थापित करने के आदेश भी दिए. यहां दो गांवों में लोगों के घर घर जाकर सीएम ने मुलाकात और बातचीत की. इस दौरान सीएम ने मृतकों के परिजन को 1 लाख रुपये की मदद सीएम रिलीफ फंड से और 4 लाख की मदद आपदा राहत फंड से देने की बात कही.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.