होम /न्यूज /उत्तराखंड /

LBS मसूरी में दाखिल फर्जी आईएएस के मामले में 20 को दाखिल होगी चार्जशीट

LBS मसूरी में दाखिल फर्जी आईएएस के मामले में 20 को दाखिल होगी चार्जशीट

मसूरी के एलबीएस अकादमी में फर्जी आईएएस महिला के मामले में एसआईटी 20 अगस्त को चार्जशीट दाखिल करने जा रही है. इस मामले में सीबीआई की लैब से एसआईटी कईं साक्ष्यों की जांच करा रही है, जिनमें आरोपी महिला रूबी चौधरी की तैयार फाइलें या फिर अकादमी में दाखिल होने के लिए तैयार कागजात और उसके हैंड राइटिंग की जांच शामिल है.

मसूरी के एलबीएस अकादमी में फर्जी आईएएस महिला के मामले में एसआईटी 20 अगस्त को चार्जशीट दाखिल करने जा रही है. इस मामले में सीबीआई की लैब से एसआईटी कईं साक्ष्यों की जांच करा रही है, जिनमें आरोपी महिला रूबी चौधरी की तैयार फाइलें या फिर अकादमी में दाखिल होने के लिए तैयार कागजात और उसके हैंड राइटिंग की जांच शामिल है.

मसूरी के एलबीएस अकादमी में फर्जी आईएएस महिला के मामले में एसआईटी 20 अगस्त को चार्जशीट दाखिल करने जा रही है. इस मामले में सीबीआई की लैब से एसआईटी कईं साक्ष्यों की जांच करा रही है, जिनमें आरोपी महिला रूबी चौधरी की तैयार फाइलें या फिर अकादमी में दाखिल होने के लिए तैयार कागजात और उसके हैंड राइटिंग की जांच शामिल है.

अधिक पढ़ें ...
    मसूरी के एलबीएस अकादमी में फर्जी आईएएस महिला के मामले में एसआईटी 20 अगस्त को चार्जशीट दाखिल करने जा रही है. इस मामले में सीबीआई की लैब से एसआईटी कईं साक्ष्यों की जांच करा रही है, जिनमें आरोपी महिला रूबी चौधरी की तैयार फाइलें या फिर अकादमी में दाखिल होने के लिए तैयार कागजात और उसके हैंड राइटिंग की जांच शामिल है.

    बताया गया है कि हैंड राइटिंग की जांच रिपोर्ट को सीबीआई ने कोर्ट को सौंप दिया है. एसआईटी के इंचार्ज सदानंद दाते का कहना है कि जैसे ही सीबीआई की रिपोर्ट टीम को मिलेगी उसके अगले दिन जार्चशीट को दाखिल कर दिया जाएगा.

    सूत्रों का कहना है कि टीम को कईं ऐसे साक्ष्य मिले हैं, जिसके आधार पर टीम जार्चशीट दाखिल करेंगी. दरअसल गैरकानूनी तरीके से आरोपी महिला के अकादमी में दाखिल होने का भी जांच टीम ने आरोप लगाया है, जिसकी तस्दीक सीसीटीवी फुटेज में हो चुकी है.

    सूत्रों की माने तो महिला के काफी दिनों तक अवैध तरीके से अकादमी में रहने का भी आरोप लगाया गया है. इस तरह से टीम का सारा दरोमदार उनक साक्ष्यों पर निर्भर करता है जो टीम को जांच के दौरान मिले है.

    आईपीएस सदानंद दाते का कहना है कि एसआईटी को कई ऐसे साक्ष्य मिले हैं, जिसके आधार पर चार्जशीट को तैयार किया जा रहा है, लेकिन महिला की हैंडराइटिंग की तस्दीक होने पर ही यह बात साफ हो पाएगी कि महिला ने गैर कानूनी तरीके से जाली कागजातों के आधार पर दाखिला लिया था या नहीं. फिलहाल एसआईटी की टीम अब कोर्ट में चार्जशीट को दाखिला करने में जुट गई हैं.

     

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर