Home /News /uttarakhand /

dalit bhojanmata mid day meal controversy officials reached school and ate food with children nodelsp

चंपावत दलित भोजनमाता विवाद: अफसरों के हस्तक्षेप से शांत हुआ स्कूल में मिड-डे मील का मामला

चंपावत के स्कूल में दलित भोजनमाता मध्याह्न भोजन मामला अफसरों के हस्तक्षेप से शांत करा दिया गया.

चंपावत के स्कूल में दलित भोजनमाता मध्याह्न भोजन मामला अफसरों के हस्तक्षेप से शांत करा दिया गया.

Mid Day Meal Controversy: चंपावत जिले के टनकपुर में सूखीढांग क्षेत्र के राजकीय माध्यमिक विद्यालय में छठी से आठवीं के कुछ छात्रों ने मध्याह्न भोजन (मिड-डे मील) लेने से इंकार कर दिया था. इस विवाद को अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद शांत करा दिया गया है. शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने इस पर कहा कि अगड़ी जातियों के छात्रों ने दलित भोजनमाता के हाथ के बने खाने का विरोध नहीं किया था बल्कि चावल खाने से मना किया था.

अधिक पढ़ें ...

देहरादून. उत्तराखंड के चंपावत जिले के टनकपुर में सूखीढांग क्षेत्र के राजकीय माध्यमिक विद्यालय में छठी से आठवीं के कुछ छात्रों ने मध्याह्न भोजन (मिड-डे मील) लेने से इंकार कर दिया था. इस विवाद को अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद फिलहाल शांत करा दिया गया है. कुछ अगड़ी जातियों के छात्रों के विरोध के बाद वहां अधिकारियों ने डेरा डाला था. प्रिंसिपल ने सख्ती दिखाते हुए कुछ को टीसी भी थमाने की बात कही थी, लेकिन अब उच्चाधिकारियों ने इस मामले को शांत करा दिया है.

चंपावत के मुख्य शिक्षा अधिकारी जितेंद्र सक्सेना ने शनिवार को बताया कि जिलाधिकारी समेत जिले के उच्चाधिकारियों के सामने छात्रों के अभिभावकों ने कहा कि मध्याह्न भोजन से बच्चों के इंकार का कारण जातिगत नहीं, बल्कि उनकी चावल के प्रति अरुचि है. उन्होंने कहा कि चंपावत के जिलाधिकारी, टनकपुर के उपजिलाधिकारी और वह स्वयं शुक्रवार को स्कूल गए थे, जहां छठवीं से आठवीं के बच्चों के अभिभावकों को भी बुलाकर उनसे भोजन से इंकार का कारण पूछा गया था.

अभिभावकों ने कही थी चावन नहीं खाने की बात
मुख्य शिक्षा अधिकारी जितेंद्र सक्सेना ने बताया कि खाने से इंकार करने वाले बच्चों के अभिभावकों ने कहा कि उनके बच्चे घर पर भी चावल नहीं खाते, जबकि मध्याह्न भोजन में दाल, सब्जी और चावल मिलता है. उन्होंने कहा, ‘हम लोगों ने बच्चों को समझाया कि अगर वे चावल नहीं खाते, तो दाल और सब्जी खाएं, लेकिन स्कूल में सबके साथ बैठकर खाना खाएं. हम अधिकारियों ने भी स्कूल के प्रधानाचार्य और बच्चों के साथ बैठकर खाना खाया.’

दलित भोजनमाता के विवाद को किया खारिज
अधिकारी ने कहा कि यह मामला जातिगत नहीं है और मामले को बढ़ा चढ़ाकर बताया गया. उन्होंने कहा कि बच्चे दलित भोजनमाता के हाथ का बना खाने से मना नहीं कर रहे हैं, बल्कि उनके इंकार का कारण चावल खाने की इच्छा न होना है. उन्होंने बताया कि ऐसे नौ बच्चे हैं, जिनमें ज्यादातर लडकियां हैं. इन बच्चों में से पांच ने पिछले माह ही कक्षा छह में दाखिला लिया है. मुख्य शिक्षा अधिकारी ने कहा कि जिलाधिकारी ने कहा है कि फिलहाल जिले में उपचुनाव के कारण आचार संहिता लागू है और इसके हटने के बाद इस बात की फिर समीक्षा की जाएगी कि समझाने का बच्चों पर कितना प्रभाव पड़ा.

पिछले साल भी हुआ था मध्याह्न भोजन का विवाद
बताया गया है कि पिछले साल दिसंबर में भी मध्याह्न भोजन को लेकर स्कूल में विवाद हो गया था, जब बच्चों ने कथित तौर पर दलित भोजनमाता के हाथ का खाना खाने से मना कर दिया था. इस बारे में सक्सेना ने कहा कि उस समय सामान्य श्रेणी के बच्चों के अनुसूचित जाति की भोजनमाता सुनीता देवी के हाथ का बना खाना खाने से इंकार ​करने के जवाब में अनुसूचित जाति के बच्चों ने सामान्य श्रेणी की भोजनमाता विमला देवी के हाथ का खाना खाने से मना कर दिया था.

किसी बच्चे को स्कूल से नहीं निकाला
सक्सेना ने उन खबरों का भी खंडन किया कि स्कूल से बच्चों को निकाल दिया गया है. उन्होंने कहा कि किसी बच्चे का स्कूल से नाम नहीं कटा है, प्रधानाचार्य ने बच्चों को डराने के लिए केवल टीसी काटने का दिखावा किया था. यह भी बताया कि प्रधानाचार्य को भविष्य में ऐसा न करने की हिदायत दी गई है.

Tags: Champawat News, Mid Day Meal Scheme, Uttarakhand Latest News

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर