अब तक 17 जानें लील गई उत्तरकाशी में आई दैवीय आपदा... कई लोग लापता

सीमांत क्षेत्र माकुड़ी और दुचाणु में दो स्थानों पर बादल फटने से क्षेत्र के माकुडी समेत आराकोट, मोल्डा, सनेल, टिकोची और द्विचाणु में भारी नुकसान हुआ है.

satendra bartwal | News18 Uttarakhand
Updated: August 19, 2019, 12:56 PM IST
अब तक 17 जानें लील गई उत्तरकाशी में आई दैवीय आपदा... कई लोग लापता
उत्तरकाशी के मोरी तहसील में आई दैवीय आपदा में 17 लोगों की मौत हो गई है और भारी नुकसान हुआ है.
satendra bartwal | News18 Uttarakhand
Updated: August 19, 2019, 12:56 PM IST
उत्तरकाशी के मोरी तहसील में आई दैवीय आपदा (Natural Disaster) में 17 लोगों की मौत हो गई है और भारी नुकसान हुआ है. बताया जा रहा है कि सीमांत क्षेत्र (Border Area) माकुड़ी और दुचाणु में दो स्थानों पर बादल फटने (Cloud Burst) से क्षेत्र के माकुडी समेत आराकोट, मोल्डा, सनेल, टिकोची और द्विचाणु में भारी नुकसान हुआ है. कई लोगों के बाढ़ के पानी में बहने और मलबे में दबने की सूचना है.देहरादून स्थिति राज्य आपदा प्रबंधन और न्यूनीकरण केंद्र (State Disaster Management and Mitigation Center) के कंट्रोल रूम में पूरे ऑपरेशन की कमान संभाल रहे अपर सचिव आपदा एस मुरूगेशन (S.Murugation) ने बताया की राहत बचाव कार्य चल रहा है. अभी तक 17 लोगों की मरने की सूचना और कई लोग अब भी लापता बताए जा रहे हैं.

राहत कार्यों के लिए बनाया अस्थाई हैलिपैड 

मुरुगेशन ने बताया कि उत्तरकाशी जिला प्रशासन ने आराकोट में अस्थाई हैलिपैड की व्यवस्था की है. वहां से रेस्क्यू टीमें गांवों में राहत बचाव के लिए निकल रही हैं. बेस कैम्प में एसडीआरएफ, एनडीआरएफ, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंच गई हैं.

अपर सचिव आपदा ने बताया कि एयर फ़ोर्स का ALH चॉपर भी राहत बचाव कार्य के लिए दून के जौलीग्रांट से निकल चुका है. ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को बचाने की कोशिश की जा रही है.

ये भी देखें: 

हिमाचल-हरियाणा में बने मॉनसून सर्कुलेशन की वजह से आई उत्तरकाशी में आफ़त

...तो इसलिए उत्तराखंड में ज़्यादा होती हैं बादल फटने की घटनाएं
Loading...

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उत्‍तरकाशी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 10:59 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...